माँ और बेटी दोनों मेरे लंड की दीवानी – 2 

मुझे उसकी गांड बड़ी मस्त दिख रही थी। मैं उसके बड़े बड़े चूतड़ दबा दबा कर मज़ा भी लेने लगा। वह बोली- हाय दईया … आज बहुत दिनों के बाद किसी मर्द ने मेरे चूतड़ पर मालिश की है। 

मुझे अच्छा बहुत लग रहा है। तेरे हाथ में जादू है भोलू। मेरे पूरे बदन पर मालिश करोगे? मैंने कहा- क्यों नहीं करूंगा मेम साहेब। मैं तो आपका गुलाम हूँ। फिर वह अपनी चूचियाँ अपने हाथों से छिपाते हुए एकदम चित लेट गई। 

अपने पेटीकोट से अपनी चूत भी छिपा ली। मैं उसकी मोटी मोटी जाँघों पर मालिश करने लगा। करते करते मैं उसके पेट तक आ गया, फिर नाभि पर भी मालिश की। 

वह मस्त होने लगी, बोली- तुम अपना अंगौछा उतार दो न भोलू … इससे मुझे बड़ी परेशानी हो रही है। नीचे चड्डी पहने हो न? मैंने कहा- हां पहने तो हूँ! उसने मेरा अंगौछा खींच लिया। 

अब मेरे बदन पर केवल मेरी एक चड्डी ही रह गयी। वह मेरे लण्ड का उभार आँखें फाड़ फाड़ कर देखने लगी। मैं मालिश करते करते उसके मम्मों तक पहुँच गया। मेरे मुंह से अचानक निकला- मेम साहेब और ऊपर तक मालिश कर दूँ? व

ह बोली- अच्छा तो क्या तुम मेरे मम्मों की मालिश भी करोगे? मैंने कहा- हां कर दूंगा। तभी तो पूरे बदन का दर्द ख़त्म होगा मेम साहेब! वह बड़े प्रेम से बोली- मेरे बदन का दर्द तब ख़त्म होगा जब तुम अपनी चड्डी खोल कर मेरी मालिश करोगे। 

पड़ोसन की चुदाई का अलग मजा – 1

मालकिन ने दे दिए चुदाई का मौका

बोलो मंजूर है? यह सुनकर मेरा लण्ड साला चड्डी के कोने से बाहर झांकने लगा। उसे देख कर मेम साहेब बोली- अरे वो देख … तेरा लण्ड तो अपने आप ही बाहर निकलने के लिए तैयार है। इसे निकाल न बाहर भोलू? 

देखो बिचारा कहाँ फंसा हुआ है? मैंने कहा- अरे मेम साहेब, मैं आपके आगे नंगा हो जाऊंगा! वह बोली- तो क्या हुआ … मैं भी तो तेरे आगे नंगी हूँ। लो देख लो मेरे मम्मे। उसने अपना हाथ मम्मों से हटा लिया। मैं तो उसके मम्मे देख कर पागल हो गया। 

वह फिर थोड़ा और बेशरम हो गयीं; वह बोली- आज तुम मुझे नंगे बदन बड़े सेक्सी लग रहे हो भोलू … बड़े हॉट लग रहे हो तुम! मैंने कहा- हॉट तो आप लग रहीं हैं मेम साहेब! वह बोली- मुझे मेम साहेब मत कहो, बीवी जी कहो। मेरे मायके में सारे नौकर मालकिन को बीवी जी कहते हैं। 

मुझे बुरचोदी बीवी जी कहो, छिनार चुदक्कड़ बीवी जी कहो, मुझे अच्छा लगेगा। यह सुनकर मेरा लण्ड साला आप से बाहर हो गया। वह फिर बोली- अच्छा मुझे सच सच बताओ कभी किसी की बुर चोदी है तुमने? मैंने कहा- नहीं मेम साहेब, मैं गरीब आदमी हूँ। 

मेरे इतने नसीब कहाँ! इतने में वह उठी, सोफे पर बैठी और मेरी चड्डी खोल कर कहा- आज तेरा नसीब है बुर चोदने का भोलू! मेरी चड्डी नीचे गिर पड़ी और मैं पूरा नंगा हो गया। मेरा लण्ड तो खड़ा ही था। 

पड़ोस की लड़की ने दी चुत बजाने को – 2

लंड पकड़ कर लेने लगी मेम साब

वह लण्ड पकड़ कर बोली- वॉव क्या मस्त लौड़ा है तेरा भोलू! एकदम तेरी ही तरह हट्टा कट्टा गोरा चिट्टा है तेरा भोसड़ी का लण्ड। इतना बड़ा लण्ड तो मेरे जीजू का भी नहीं है जिससे मैं अक्सर चुदवाती हूँ। 

फिर उसने भी अपना पेटीकोट उतार कर फेंक दिया। उसकी बड़ी बड़ी तनी हुई चूचियाँ और मस्तानी चूत देखकर मेरा लण्ड साला हिनहिनाने लगा। उसने लण्ड की कई चुम्मियाँ लीं और बोली- भोलू, तुम गरीब नहीं हो। 

तेरे पास तो इतना बड़ा और मोटा तगड़ा लण्ड है यार! इस तरह के लण्ड के लिए जाने कितनी बीवियां तरसतीं रहतीं हैं। अगर उन्हें मालूम हो जाए तो वो हाथों हाथ तेरा लण्ड खरीद लेगीं। 

फिर वह नंगी नंगी बड़े प्यार से मेरा लण्ड हिलाने लगी, चाटने लगी और चूसने लगी मेरा लण्ड। मैं उसके सामने खड़ा खड़ा उससे अपना लण्ड चटवाने लगा। मेरी ख़ुशी का ठिकाना न था; मैं बहुत ज्यादा ही उत्तेजित हो गया था। 

मेरी इच्छा पूरी हो रही थी। मेरी नज़र उसके बड़े बड़े मम्मों पर थी। बस मैंने उसके मम्मों में लण्ड घुसेड़ दिया। उसने भी अपने दोनों हाथों से अपने मम्मे पकड़ कर मेरे लण्ड के लिए एक सुरंग बना दी। 

मैं लण्ड बार बार उसी में आगे पीछे करने लगा यानि चोदने लगा मैं उसके रस भरे मम्मे। वह भी मस्ती से हर बार लण्ड के ऊपर आते ही उसका सुपारा चाट लेती जिससे मुझे बड़ा मज़ा आने लगा। 

Leave a Comment