मेडम के जाने के बाद करि लड़की की चुदाई – 3

मैं- सॉरी यार, मुझे खुद नहीं पता क्या हो गया था। सरिता- कोई बात नहीं पर अब ये तू फिर कभी नहीं करेगा। मैं- ओके। हम दोनों फिर से सेक्स वीडियो देखने लगे। सरिता वीडियो को देखती हुई बोली- यार, उस लड़के का भी तेरे जैसा लंड है और वो लड़की कितने आराम से लंड ले रही है। 

मैं- हां ये तो है … क्यों ना हम भी एक बार कोशिश करें। सरिता- नहीं मेरी चुत बहुत छोटी है, उसमें ये तेरा मूसल जैसा लंड नहीं जाएगा। मैंने उसके ये बोलते बोलते ही उसे किस करना शुरू कर दिया। 

वो भी किस करने लगी। चूमाचाटी करते हुए ही मेरे हाथ उसके चूचों को दबाने लगे। धीरे धीरे वो गर्म होने लगी और उसकी मादक आहें निकलने लगीं। मैंने झट से उसका टॉप उतार दिया। मैं बारी बारी से उसके दोनों चूचों को ब्रा के ऊपर से ही चूसने लगा और काटने लगा। 

सरिता- अह ओहह ब्रा भी उतार दे … और चूस चूस के लाल कर दे इन्हें। मैंने जल्दी से ब्रा उतार दी और उसके चुचे चूसने लगा। वो सिसकारियां भरने लगी। मैंने उसके चुचे इतने चूसे, जैसे उसने बोला था … बिल्कुल वैसे ही लाल हो गए थे। 

अब मैं उसे फिर से किस करने लगा और इस बार किस करने से पहले ही मैंने उससे लेटा दिया था और किस करने लगा था। किस करते करते मेरा लौड़ा उसकी चुत के छेद पर लगने लगा। 

अब सरिता हद से ज्यादा गर्म होने लगी थी। सरिता- देवू अब और नहीं … अब और नहीं … तूने मुझे इतना तड़पा दिया है कि अब मैं तुझे मना ही नहीं कर सकती। साले कुत्ते अब मेरी चुत की प्यास बुझा दे … अपना लंड मेरी चुत में पेल दे … आंह जल्दी से डाल भोसड़ी के। 

सौतेले बेटे तो बनाया अपने अकेलेपन का साथी – 1

चुदाई के लिए तरसा दिआ लड़की को

उसने मुझे गाली दी तो मैंने एक सेकेंड भी देर न करते हुए सरिता की चुत के छेद पर अपना लंड रख कर धक्का दे मारा। मगर लंड अनाड़ी था तो फिसल गया। मैंने फिर किया, मगर फिर से फिसल गया। 

सरिता- क्या कर रहा है साले … जल्दी अन्दर डाल ना। मैंने सरिता की चूत को अच्छे से चाटा और गीला कर दिया और फिर से चुत पर लंड को रखकर धक्का लगाया। इस बार 4 इंच लंड अन्दर घुस गया। उसने मुझे लात दे मारी और मेरा लंड बाहर आ गया। 

वो मुझे गालियां भी बकने लगी। मैं उसके पास को गया और उसे किस करने लगा। थोड़ी देर तक चूमा, जब तक वो शांत नहीं हुई, मैंने अपने होंठ उसके होंठ से लगाए रखे। वो शांत हो गयी तो मैंने उसके पैर अपने कंधों पर रख लिए और इस बार उसे किस करते करते मैं उसकी चुत में लंड डालने लगा। 

धीरे धीरे मैंने अपना पूरा लंड 7 इंच का उसकी छोटी सी गोरी चूत में पेल दिया। वो दर्द से तड़फ रही थी, पर मैं भी उसको शांत करने के लिए उसे किस करता, तो कभी उसके बूब्स को मसल देता। 

ऐसे करते करते वो शांत होने लगी और अब मेरे साथ वो भी गांड उठा उठा कर मज़ा लेने लगी। मैं उसको 15 मिनट तक चोदता रहा और अब वो भी मेरा साथ देने लगी थी। सरिता सिसकारने लगी थी। 

बेहेन ने करि मेरे लंड की सवारी – 1

चुत की चुदाई करके फाड़ दी चुत 

सरिता- ओहहह देव, तू तो मेरी जान लेकर रहेगा … आंह आज चोद मुझे … आंह और जोर से चोद … मेरी इस छोटी सी चुत का भोसड़ा बना दे। उसने मुझे कसके पकड़ लिया, जिससे उसके बड़े लंबे नाख़ून मेरी पीठ में गड़ गए। 

वो अकड़ने लगी क्योंकि अब वो झड़ रही थी। मैं- मेरा भी होने वाला है, मैं भी झड़ने वाला हूँ … चुत में निकल गया तो बाप बन जाऊंगा … साली जल्दी से बता। सरिता- मेरे मुँह में डाल दे। मुझे अब वो पीना है। 

मैंने जल्दी से उसकी चुत से लंड निकाला और उसके मुँह में डाल दिया। मेरा लंड पूरा खून से सना हुआ था। उसके मुँह में डालते ही मेरा लंड झड़ गया और वो सब पी गयी। उसने चाट कर मेरा लंड साफ़ कर दिया। 

अब हम दोनों ने कपड़े पहनते पहनते बात करना शुरू कर दिया। सरिता- यार दर्द तो बहुत हुआ, लेकिन मज़ा भी बहुत आया। तूने मेरी छोटी सी चुत को जो एक इंच ही ले सकती थी, तीन इंच मोटा लंड लेने लायक कर दिया। 

मैं- ऐसे ही चुदवाती रहेगी, तो और चूत को और चौड़ा कर दूंगा। सरिता- तू मेरे से शादी कर ले, तुझसे अपनी चुत क्या अपनी गांड भी चुदवाऊंगी मेरे राजा। अब मुझे तेरा लंड रोज़ चाहिए। मुझे तुझसे हर रोज़ अपनी चुत की मरम्मत करवानी है। 

मैं- क्यों नहीं मेरी बावली कुतिया … तू तो अब मेरी रांड है, मैं जब चाहूंगा, तब तेरी प्यास बुझाऊंगा अपने लौड़े से … मेरी रानी तू लंड की चिंता मत कर। फिर हम दोनों अपने अपने घर चले गए और उस दिन के बाद मैंने कई महीनों तक उसको चोदा। 

जब मेरा मन करता वो मेरे पास आ जाती, मैं उसे पेल देता। पर दोस्तो, मैंने उसकी गांड अब तक नहीं मारी। अगले हफ्ते मैं मिलने जाऊंगा। मैंने गांड मारने का मन बना लिया है, पर देखता हूँ कि क्या होता है। 

Leave a Comment