मैडम की चुत को दी शांति – 2

मेडम को किस करते हुए एक मिनट तक मैं भी नहीं हिला। फिर मैंने अपने हाथों को शबनम मेम की पतली सी कमर में हाथ डालकर उनको अपनी तरफ खींचा तो शबनम मेम के बूब्स मेरे सीने से आ लगे।

मैंने शबनम मेम के होंठों को चूमना शुरू कर दिया और अपना एक हाथ शबनम मेम की मोटी सी गांड पर फिराने लगा। शबनम मेम आहें भरने लगीं। मैंने थोड़ा और जोर से खींचा, तो शबनम मेम मेरे ऊपर आ गिरीं।

उनके वजन से मैं भी बेड पर गिर गया। अब हम दोनों बेड पर गिर गए थे लेकिन अभी तक शबनम मेम ने अपने होंठों मेरे होंठों से अलग नहीं किया था। मेरे मन में चल रहा था कि ये सब क्या हो रहा है, पर मैं उस लम्हे को इंजॉय कर रहा था। 

शबनम मेम अब मेरी शर्ट खोलने लगीं। मैंने धीमे से कहा- ये क्या कर रही हो? शबनम मेम- तुम कुछ मत बोलो प्लीज! मैं भी चुप रहा और उनको जो करना था, करने दिया।

वो एकदम पागल होकर इस बेताबी से मेरे कपड़े उतार रही थीं कि शब्दों में बयान नहीं कर सकता। मेरा मन भी उनके कपड़े उतारने का हुआ लेकिन न जाने क्यों … मैं कुछ डर सा रहा था। 

फिर मैंने हिम्मत करके मेम का टॉप उतारने की कोशिश की तो वो हंसने लगीं। मैं रुक गया। शबनम मेम- डरो मत यार … उतारो न। उनके इतना कहते ही मैंने उनका टॉप और जींस उतार कर अलग कर दिया। 

लोकडायुन में लिआ बेहेन की चुदाई का मजा – 1

मेडम को कर लिआ नंगा 

अब वो सिर्फ ब्रा और पैंटी में थीं। शबनम मेम ब्लैक ब्रा और पैंटी में इतनी हॉट लग रही थीं कि मन बावला हुआ जा रहा था। मुझे उनके बदन की गर्माहट महसूस हो रही थी और मेरा लंड उनको चोदने के लिए बेकरार हो रहा था। 

शबनम मेम के बूब्स को ब्रा की कैद से आजाद करने के लिए मैंने हाथ बढ़ाया और उनकी ब्रा का हुक खोल कर उसे निकाल दिया। ब्रा खुली तो मेम के बूब्स हवा में लहराने लगे।

मैं उनके एक दूध के निप्पल को अपने होंठों में दबा कर चूसने लगा। शबनम मेम सिसकारी भरने लगी थीं। कुछ देर बाद शबनम मेम ने भी मेरे सारे कपड़े उतार दिए और अपनी पैंटी को निकाल फैंका।

अब हम दोनों बिल्कुल नग्न अवस्था में थे। शबनम मेम मेरे लंड को सहलाने लगीं। मैंने उन्हें आंख से इशारा किया तो वो मेरे लंड को मुँह में डालकर ऐसे सिप सिप करके चूसने लगीं जैसे आइसक्रीम को चूस रही हों। 

मेरा लंड कुछ ही पलों में पूरा तन चुका था। मैंने शबनम मेम की चुत की पंखुड़ियों पर उंगली रखी और एक बार चुत को मसल कर उंगली अन्दर तक डाल दी। शबनम मेम मेरी उंगली को चुत में लेकर आह आह करने लगीं। 

फिर कुछ देर बाद हम दोनों 69 की पोज़ीशन में आ गए। मैं शबनम मेम की चुत में जीभ डालकर अन्दर बाहर करने लगा। शबनम मेम के मुँह से ‘आई आह आह आह …’ निकल रही थी। 

मामी और भांजे की चुदाई की कहानी – 1

चुत में लिआ शबनम मेडम ने लंड 

कुछ बाद शबनम मेम ने लंड को मुँह से निकाल दिया और सीधी होकर मेरे लंड को अपनी चुत पर सैट करने लगीं। मेम प्यासी आवाज में बोलीं- अब मुझे और मत तड़पाओ … जल्दी से मेरी प्यास मिटा दो। 

ये कह कर शबनम मेम ने मुझे एक किस कर दिया। मैंने शबनम मेम को बेड पर लिटा दिया और उनकी दोनों टांगों को अपने कंधों पर रख लिया। लंड शबनम मेम की चुत पर सैट किया और एक हल्का सा धक्का दे मारा। 

लेकिन उनकी चुत कसी हुई थी और लंड मोटा था इसलिए वो चुत के अन्दर नहीं गया। मुझे पता चल गया था कि शबनम मेम अभी सीलपैक माल हैं और उन्होंने कभी ना तो सेक्स किया है … और ना ही चुत में उंगली डाली है। 

मैंने लंड को चुत की फांकों में सैट किया और पूरी ताकत लगा कर अन्दर पेलना चाहा। इससे मेरा लंड शबनम मेम की चुत की फांकों को चीरता हुआ अन्दर चला गया। शबनम मेम दर्द से कराह उठीं और मुझे रोकने लगीं।

मैंने उनका दर्द देख कर लंड वहीं रोक दिया। शबनम- अह्ह्ह अमन … बहुत दर्द हो रहा है … धीरे करो मेरा ये पहली बार है। मैं- ठीक है आप बता देना, अगर दर्द ज्यादा हुआ तो मैं फिर से रुक जाऊंगा। ये कह कर मैंने शबनम मेम को गले से लगाया और अपने ऊपर लिटा लिया।

लंड चुत में ही फंसा हुआ था और शबनम मेम की चुत में जगह बना चुका था। मैंने शबनम मेम की चुत में धीरे धीरे लंड आगे पीछे करना शुरू कर दिया। शबनम- आह आअह यह्ह्ह फ़क ओह्ह यह्ह स्लो आंह! वो सीत्कार करने लगीं तो मैंने अब चुदाई की स्पीड बढ़ा दी। कुछ ही देर में उनका पूरा बेडरूम फच फच की आवाजों से गूँजने लगा। शबनम मेम के मुँह से भी ‘आह्ह्ह आह्ह्ह यह्ह्ह …’ के अलावा कुछ नहीं निकल रहा था। हम दोनों सेक्स का मजा अच्छे से ले रहे थे।

मैडम की चुत को दी शांति – 3

Leave a Comment