स्कूल की मैडम को नंगा करके चोदा – 1

वो जनवरी का महीना था। कड़ाके की ठंडी का मौसम था। हमारा कॉलेज सुबह 8 बजे से लगता था। लेकिन मुझे आदत थी कि कॉलेज जल्दी पहुंच जाऊं। इसलिए मैं रोज सुबह 7।30 बजे कॉलेज पहुंच जाया करता था। 

एक दिन मैं स्कूल के बरामदे में टहल रहा था तो पीछे से आवाज आई ‘सुनो इधर आओ।’ मैंने पीछे मुड़ कर देखा तो ममता मैडम थीं। मैं उनके पास गया- जी मैडम आपने बुलाया! ‘हां मुझे तुमसे कुछ काम है, चलो मेरे साथ।’ मैं चुपचाप उनके पीछे पीछे जा रहा था। 

इसी सोच में डूबा हुआ था कि इनको मुझसे क्या काम है। तभी मैडम स्टाफ रूम के बाथरूम की ओर मुड़ीं और बॉथरूम के पास पहुंच कर मुझसे बोलीं- तुम अन्दर जाकर चैक करो, कोई है तो नहीं। ऐसा इसलिए क्योंकि स्टॉफ बॉथरूम की कुंडी टूटी थी। 

अब मुझे समझ आया कि इनको मुझसे क्या काम था। मैं अन्दर गया, वहां कोई नहीं था। मैंने मैडम से कहा- अन्दर कोई नहीं है, आप बिंदास जाओ। फिर मैं क्लास में जाने के लिए मुड़ा, तो मैडम ने रोक लिया। उन्होंने ये बोलकर मुझे रोका कि कोई आ गया तो उसे बता देना कि वो अन्दर गई हैं। 

मैंने ओके कहा और वहीं खड़ा हो गया। फिर मैं वहीं बाहर मैडम के आने का इंतजार करने लगा। तभी मुझे मैडम की मूतने की आवाज सुनाई दी ‘शर्र सर्र सशर्र… ’ ये आवाज सुनते ही मेरे दिमाग में खुराफाती आईडिया ने जन्म ले लिया कि क्यों न मैडम को पेशाब करते देखा जाए। 

मैंने हल्का सा दरवाजे को खोलते हुए देखने की कोशिश की। मैडम का सिर सामने की तरफ था और गांड मेरी तरफ थी। उनको पता नहीं था कि मैं उन्हें देख रहा हूँ। मैडम की गोरी गोरी गांड देख कर मेरा लंड तुरंत झटके मारने लगा। 

मरीज लड़की की चुदाई का मजा – 1

मैडम को देख कर खड़ा हो गया लंड

मैंने पहली बार किसी जवान औरत को नंगी देखा था। मैडम उठने को हुईं तो मैं वापस अपनी जगह पर आ गया। लेकिन मेरा लंड बैठने का नाम ही नहीं ले रहा था। मैंने जोर से उस पर चिमटी काटी, तब कहीं जाकर लंड शांत हुआ। 

मैडम बाहर निकलती हुई बोलीं- तुम अब अपनी क्लास में जाओ। मैं अपनी क्लास में आ गया। अब मैं रोज स्टॉफ बॉथरूम की तरफ जाने का मौके ढूँढता ताकि और कोई मैडम दिख जाएं तो मैं उन्हें भी नंगी देख सकूं। एक दिन मेरी क़िस्मत पलटी। 

मैं बॉथरूम के पास से गुजर रहा था कि एक सर ने मुझे बुलाया और कहा कि अन्दर जाकर चैक कर, कोई है तो नहीं! दरअसल हमारे स्कूल में सभी टीचर ऐसे ही किसी भी बच्चे को अन्दर भेज कर चैक करवाते थे, कुंडी टूटी होने के कारण ऐसा जरूरी था। मैं अन्दर चला गया। 

मुझे अन्दर जाते ममता मैडम पेशाब करती हुई दिख गईं। फिर भी मैं उनके पास चला गया। उनको नजदीक से देखने की चाहत थी, फिर आज मेरे पास बहाना भी था कि सर ने अन्दर चैक करने के लिए भेजा है। 

उनको मेरे आने की आहट सुनाई दी, तो वो तुरंत उठ गईं, जिस कारण पेशाब की कुछ बूंदें उनकी सलवार पर लग गईं। वो मुझ पर चिल्लाने को हुईं, तो मैंने कहा- सर ने मुझे चैक करने भेजा था। फिर उन्होंने मुझे डांट कर भगा दिया। 

तनहा भाभी को दिए चुदाई का मजा – 1

मेडम ने देख लिआ मेरा मोटा लंड 

मैं थोड़ा दूर जाकर मैडम के बाहर आने का इंतज़ार करने लगा। वो जैसे बाहर आईं, मैं उनके पास जाकर माफी मांगने लगा- आप किसी से मेरी शिकायत न करें। बहुत गिड़गिड़ाने के बाद मैडम मान गईं और मुझे वार्निंग देकर चली गईं। अब जब भी मैडम दिखतीं, मैं उनको सॉरी बोलता रहता। 

एक दिन मैडम ने मुझे फिर से बुलाया। उनको बॉथरूम जाना था तो चैक करने के लिए कहा। मैंने मना कर दिया कि अन्दर कोई दूसरी मैडम हुईं तो मुझे डांट पड़ेगी। उन्होंने मुझसे कहा कि यदि तुम नहीं गए तो वो उस दिन की बात सबको बता देंगी। 

अब मुझे मजबूरी में जाना पड़ा। फिर से मैडम की मूतने की आवाज सुनकर मेरे अन्दर का हवस जग गई और मैं दरवाजे को हल्का सा हटा कर उन्हें देखने लगा। मेरा लंड पूरे जोश में खड़ा था। मैडम ने उठ कर पैंटी पहनी और जैसे ही वो मुड़ीं, मुझे देखते हुए उन्होंने देख लिया। 

मेरे पैंट में खड़े लंड को भी देख लिया। उनका चेहरा गुस्से से पूरा लाल हो चुका था। उन्होंने मुझे वहीं पर बॉथरूम के सामने पीट दिया। मैं बहुत रो रहा था- मैडम प्लीज, मुझे माफ कर दो दोबारा ऐसे नहीं करूंगा प्लीज मैडम प्लीज! वो मानने को तैयार नहीं थीं। 

उन्होंने लगभग मुझे दस मिनट तक मुर्गा बनाया और सजा दी। चूंकि स्कूल का टाईम 8 बजे का था बाकी लोग आने वाले थे तो किसी ने देखा नहीं। फिर मैडम मुझे ऊपर सेकंड फ्लोर के एक क्लास रूम में लेकर गई और डांटने लगीं। मैंने उनसे बहुत रिक्वेस्ट की कि मुझे छोड़ दीजिए। वो नहीं मानी। मैंने कहा- मेम आप जो बोलेंगी, मैं करूंगा … प्लीज छोड़ दीजिए। 

Leave a Comment