माँ और बेटी दोनों मेरे लंड की दीवानी – 3

फिर मैंने उसे उठाया और बेड पर पटक दिया। मैं उसके ऊपर बड़ी बेशर्मी से चढ़ गया और उसके पूरे नंगे बदन को हर तरफ से और हर तरह से दबा दबा कर चूम चाट चाट कर मज़ा लेने लगा; उसकी मस्तानी चूत सहलाने लगा। 

उसकी झांटें बिल्कुल साफ़ थी चूत बड़ी तरोताज़ा दिख रही थी। फिर मैं जबान निकाल कर उसकी बुर चाटने लगा। वह सिसयाने लगी, मज़ा लेने लगी। मैं भी उसे अपनी जबान घुसा घुसा कर पागल बनाना चाहता था। 

वह मस्ती में बोली- अच्छा सुनो भोलू, आज तुम मेरी बुर ले लो यार! अपना हक्कानी लण्ड पेल दो मेरी चूत में! आज मैं तुम्हें बड़े प्यार से अपनी बुर दूँगी। आज तुम मुझे बड़े प्यारे लग रहे हो। मैं बहुत दिनों से तेरा लण्ड पकड़ना चाहती थी। 

आज मौका मिल गया। आज तुम मुझे चोदो। मुझे खूब चोदो, मैं बहुत चुदासी हूँ। आज मुझे किसी मर्द का लण्ड मिला है। मैं किसी भी कीमत पर भी इसे खोना नहीं चाहती। मेरा दिल तेरे लण्ड पर आ गया है यार … मैं तेरे लण्ड से प्यार करने लगी हूँ। 

तेरे लण्ड की बहन चोद दीवानी हो गई हूँ मैं! तब तक मैं भी बहुत गरम हो चुका था। मैं बेड के नीचे खड़ा हो गया, उसको अपनी तरफ खींचा और उसकी गांड के नीचे एक तकिया लगा दी जिससे उसकी बुर थोड़ा ऊपर उठ गई। 

मैंने उसकी दोनों टांगें फैलाईं और लण्ड चूत पर टिका दिया; फिर लण्ड गचागच घुसाने लगा अंदर। लण्ड पूरा घुसा तो वह बोली- हाय दईया बड़ा मोटा है लण्ड तेरा भोसड़ी के भोलू! मेरी बुर फट गई यार! इतना मोटा लण्ड पहले कभी नहीं घुसा मेरी चूत में! हाय राम … क्या करूंगी अब मैं? 

गाडी से लड़की पटाके करि चुदाई 

चुत में लंड लेके फट गयी चुत 

अब तो चूत बुर चोदी बिना चुदे मानेगी नहीं! मैं घपाघप चोदने लगा उसकी बुर … पूरा लण्ड पेल पेल कर चोदने लगा। वह फिर बोली- हाय रे … चोद डालो मेरी बुर भोलू! आज मुझे बहुत मज़ा आ रहा है। 

तूने पहले क्यों नहीं बताया कि तेरा लण्ड इतना मोटा है। बताया होता तो अब तक जाने कितनी बार चुदवा चुकी होती! मैं चुदाई की स्पीड बढ़ाता गया, झटके पर झटके लगाता गया और वह हर झटके का जबाब झटके से देती गई। 

मुझे मालूम हो गया कि वह बड़ी चुदक्कड़ औरत है। मेरे मन उसकी बेटी की भी बुर चोदने का हो गया। मैंने खुलकर कह भी दिया- बीवी जी, किसी दिन मुझे अपनी बेटी वर्तिका की भी दिलवा दो बुर! वह बोली- वर्तिका की माँ का भोसड़ा … मैं जानती हूँ वह भी बुर चोदी लण्ड पकड़ने लगी है। 

तू चिंता न कर … मैं खुद तेरा लण्ड उसकी चूत में पेल दूँगी। मुझे उसकी सहेलियों से मालूम हो गया है कि वह कॉलेज के लड़कों से चुदवाती है। जब लड़कों से चुदवाती है तो तेरे जैसे मरद से तो दौड़ कर चुदवा लेगी। 

वह भी भोसड़ी वाली लण्ड की उतनी ही शौक़ीन जितनी मैं। बड़ी अय्याश है मेरी बेटी वर्तिका। उसकी बातों से मेरे लण्ड में गज़ब का तनाव आ गया। मैं उसे और तेज तेज पूरा लण्ड पेल पेल कर बिना रुके दनादन चोदने लगा। 

वह बोली- हाय मेरे राजा, मेरी बिटिया की बुर सुनकर तेरा लण्ड साला बौखला गया है भोलू! देखो न कितनी जोर जोर से भकाभक चोद रहा है मेरी बुर! मैं सच में पागल हो गया था उसे चोदने में! मुझे उसकी बुर के अलावा और कुछ नहीं दिखाई पड़ रहा था। 

चाची की हॉट पिक्स और मेरा दीवाना लंड

चुदवा कर चुत से निकल आया पानी 

आखिरकार वह झड़ गई और बोली- यार भोलू, तूने मेरी चूत ढीली कर दी। मेरी चूत की सारी गर्मी निकाल दी तूने! फिर मैं भी झड़ गया और उसने मेरा झड़ता हुआ लण्ड बड़े प्यार से चाटा। जाते समय मैंने कहा- बीवी जी, यह बात साहेब को नहीं मालूम होना चाहिए नहीं तो वह मुझे नौकरी से निकाल देगें। 

मैं बर्बाद हो जाऊंगा। वह बोली- तेरी साहेब की बिटिया की बुर … वह भोसड़ी वाला तेरा कुछ नहीं कर पायेगा। लण्ड तो ठीक से खड़ा नहीं हो पाता उसका। न उसकी गांड में दम है और न उसके लण्ड में दम है। वह मेरी एक झांट भी नहीं उखाड़ पायेगा। मैं हूँ न … तुम चिंता न करो। 

उसने मेरा लण्ड की फिर चुम्मी ली। उसके बाद मैं अपने कमरे में चला गया। कुछ देर बाद वर्तिका कॉलेज से आ गयी। उसको कुछ नहीं मालूम हुआ कि उसकी माँ मुझसे चुद चुकी है। वह एक जगह बैठ कर अपना मोबाइल देखने लगी। 

मैं भी उसे दूर से छिप कर देखने लगा। इतने में उसकी मम्मी आयी और उसे पीछे से देखा कि वर्तिका मोबाइल पर बड़े बड़े लण्ड की फोटो देख रही है। अचानक उसकी मम्मी बोली- इससे बड़ा लण्ड तो भोलू का है, बुर चोदी वर्तिका! 

वर्तिका बोली- वाओ, तो क्या तुमने उसका लण्ड देखा है, मम्मी? मम्मी बोली- हां बिल्कुल देखा है, पकड़ कर देखा है। क्या मस्त लौड़ा है उसका … मैं तो दीवानी हो गयी उसके लण्ड की! लेकिन पहले तू बता कि तूने अभी तक कितने लण्ड पकड़े हैं और कितने लण्ड पेलवाये हैं अपनी बुर में? 

मुझे इसकी जानकारी हो गई है। उसने बताया- अरे मम्मी, अभी तक सिर्फ 2 / 3 लण्ड ही पकड़ा है मैंने और 2 लण्ड पेलवा भी चुकी हूँ अपनी चूत में। पर लण्ड तो तुम भी पेलवाती हो मम्मी जी। 

मैंने तुमको पराये मर्दों से चुदवाते हुए देखा है। मम्मी बोली- देखा है तो फिर आकर पकड़ा क्यों नहीं मेरे सामने लण्ड? अगर तू पकड़ लेती तो मैं तेरी चूत में भी घुसा देती लण्ड! अब तो तेरी चूत मेरी चूत के बराबर हो गई है बुर चोदी वर्तिका।

Leave a Comment