मालकिन को दिआ किराये के बजाए अपना लंड चुदाई के लिए

बात आज से कुछ 3 साल पहले की है जब मै और मेरा परिवार किराये के घर में रहते थे और हमे हर महीने माकन मालिक की सुन्नी पड़ती थी। वैसे आज तो मेरे पास खुद का अपना मकान हो गया है पर यह घटना मुझे उस समय की याद दिला देती है। 

बात कुछ यु थी की इस महीने भी का किराया देने का भी समय आ गया था और पापा अब फिर से चिंता में पद गए थे की इस महीने का किराया कैसे दिआ जाये। मै भी अब तक बड़ा हो गया था और काम पर जाने लगा था। 

पर मेरी कमाई से घर अभी तक अच्छे से नहीं चल पा रहा था इसलिए मै भी चिटा में ही रहता था की कैसे इस महीने को निकाला जाए। अब कुछ दिन बाद मकान मालिक भी आ गया और पापा से किराया मांगने लगा। 

पापा ने उससे कह दिआ की वह कुछ दिन बाद उसे पैसे दे देंगे पर मुझे पता था की घर में भी अभी इतने पैसे है ही नहीं की हम लोग इस महीने का किराया दे सके। उस रात मै सो नहीं पाया। 

अब अगले दिन मकान मालिक फिर से आया और  लगा की वह काम से कुछ दिनों के लिए बाहर जा रहा है इसलिए हम लोग किराया मकान मालकिन और उसकी बीवी को ही दे दे। 

पापा ने उसकी हां में हां भर दी क्युकी अब हमे कुछ दिन मिल चुके थे। पापा ने अब सोचा की क्यों ना हम मालकिन से कुछ बात कर ले जिससे वह महीने हमे थोड़ी मोहलत दे दे। 

पराये लंड से मिटाई भाभी ने अपनी हवस

मालकिन ने करि मुझसे बात

पापा अब उससे बात करने के लिए चले गए पर मालकिन ने पापा से एक भी बात ना करि क्युकी पापा की उम्र थोड़ी ज्यादा थी और मालकिन की उम्र अभी भी जवान थी। 

इसलिए अब मेने सोचा की क्यों ना मै मालकिन से बात करू और पैसे के लिए कुछ दिन की मोहलत मांगू। इसलिए मै अब मालकिन के पास चला गया और उससे कहा की हम लोगो को कुछ दिन की मोहलत चाहिए जिससे हम इस महीने  किराया दे सके। 

मालकिन ने अब मुझे कहा की मै कोण हु और मेने अपने पापा का नाम उसे बता दिआ। मालकिन ने मुझे कहा की इन बातो का कोई भी फायदा नहीं है और मै वापस चला जायु। 

अब मेने मालकिन से कहा की मुझे अभी कोई जॉब भी नहीं मिल रही है जिससे हम उसका किराया दे सके और अगर वह मुझे कोई काम दिला दे तो हम उसका किराया बहुत जल्दी दे देंगे चाहे वह कोई भी काम हो। 

अब मालकिन ने कुछ देर सोचा और मुझे कहा की क्या मै कोई भी काम करने के लिए राजी हु ? मेने पहले सोचा की वह किस काम की मुझसे बात कर रही है पर बाद में मेने अपने घर की हालत को देखते हुए हां में जवाब दे दिया। 

अब मालकिन ने मुझे कहा की मै कुछ देर के लिए उसके साथ अंदर आयु और मै उसके पीछे पीछे चल दिआ। मालकिन ने मुझे कहा की मै बिस्तर पर बैठ जायु और फिर वह मुझे काम बताएगी। 

मै अंदर जाए बेथ गया और अब मालकिन कुछ देर बाद आयी और उसने मुझे कहा की काम कुछ नहीं है और मुझे कुछ देर के लिए बिना कुछ कहे और देखे ऐसे ही बैठे या लेते रहना है। 

आंटी को दिआ लॉलीपॉप और आंटी ने करवाए मजे

मालकिन ने लिआ चुत के अंदर लंड 

मेने हां कहा और अब मालकिन ने मेरी आंख पर पट्टी बांध दी। मालकिन ने अब मुझे अपने हाथ से लिटा दिआ और मुझे कहा की यह मेरी कमाई का यह पहला दिन है  इसलिए मै अच्छे से काम करू। 

अब अगले पल मुझे मालकिन के हाथ मेरे जिस्म पर  चलते हुए महसूस होने लगे और उसने मेरी टीशर्ट को ऊपर कर दिआ था। मालकिन मेरे जिस्म पर अपने होठो से चूमे जा रही थी जिससे मेरा लंड अब खड़ा हो गया था। 

मुझे मजा आ है था इसलिए मेने अब कुछ भी नहीं कहा और मालकिन ने अब मेरे लंड को बाहर निकाल लिआ और उसे हिलाते हुए पूरा खड़ा करने लग गयी। मेरी आंख बंद थी पर मुझे बहुत मजा आ रहा था। 

मालकिन ने मेरे लंड को पूरा सख्त बना दिआ था और अब कुछ देर बाद मुझे मेरे ऊपर किसी के बैठने की हलचल महसूस हुई और मै समझ गया की मालकिन मेरे लंड पर बैठकर अपनी चुत में मेरे लंड को ले रही है। 

मालकिन ने अब आहे लेते हुए मेरे ऊपर कूदना शुरू किआ और मेरे लंड से चुदने  लग गयी। धीरे धीरे वह मेरे लंड पर कूदने की रफ़्तार को बढ़ा रही थी जिससे उसकी आहे बहुत तेज हो रही थी और मुझे भी काफी अच्छा लग रहा था। 

काफी देर की चुदाई के बाद जैसे ही मेरे लंड से माल निकलने वाला था मालकिन मेरे लंड से उतर गयी और मेरा सारा माल निचे गिर गया और मालकिन ने कुछ देर बाद मेरी पट्टी खोली और मुझे कुछ पैसे भी दिए जिससे मेरे सारा किराया दे दिआ। 

Leave a Comment