बेहेन की चुदाई रात के समय – 1

दोस्तो, मैं बंगाल का रहने वाला हूं और मैंने अपनी पढ़ाई दिल्ली में रहकर की हुई है। दिल्ली में मैं अपने घरवालों के साथ ही रहता था। हर साल मैं अपनी मम्मी के साथ बंगाल जाता था जहां पर मेरे नाना नानी रहते थे। 

ये हॉट सिस्टर की कहानी 2018 की है जब एक बार मैं कॉलेज की छुट्टियों में अपनी मम्मी के साथ नाना के यहां गया हुआ था। हम लोग दस दिन तक वहां पर रुके और फिर बोर होने लगे। 

फिर हमने अपने एक दूर के रिश्तेदार के यहां जाने का प्लान किया। तो हम अगले दिन अपने रिश्तेदार के घर जाने के लिए निकल पड़े। हमें वहां पहुंचने में 12 बज गए। हम पहुंचे तो जाकर बेल बजाई और एक 19 साल की जवान लड़की ने दरवाजा खोला। 

मैं उसको जानता था लेकिन कई साल पहले मैंने उसे देखा था। इस बार जब देखा तो देखता रह गया कि तीन सालों के अंदर ही उसके बदन में कितने बदलाव आ गए हैं। 

रिश्ते में वो मेरी दूर की बहन लगती थी। उसका रंग थोड़ा सांवला था लेकिन फिगर बहुत अच्छा था। उसे देखकर कोई भी उसको चोदने की चाहत करे। उसने हमें अंदर बुलाया क्योंकि उन लोगों को पहले से ही पता था कि हम लोग आने वाले हैं। 

हमने थोड़ा आराम किया और फिर खाना भी 1 बजे तक हो गया। सर्दियों के दिन थे तो बातों में ही शाम हो गई। फिर मेरी मम्मी ने पास ही मेरी बुआ के घर जाने के लिए कहा। 

मालकिन की चुत की करि चुदाई – 1

सालो बाद मिली बेहेन के साथ घुमा 

इस बार मेरी बहन भी साथ गई। रास्ते में हम दोनों के बीच में काफी सारी बातें हुईं और कई बार चलते हुए वो मेरा हाथ भी पकड़ लेती थी। मुझे भी मजा आ रहा था और बार बार मेरा लंड खड़ा हो जा रहा था। 

शायद उसको भी मैं पसंद आ गया था। बुआ के घर बातें करते हुए हमें अंधेरा हो गया था। हम लोग फिर छत पर चले गए और ऊपर जाकर वो मेरे हाथ को अपने हाथ में लेकर घूमने लगी। मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया। 

मैंने पैंट पहनी हुई थी और तना हुआ लंड साफ पता चल रहा था। मेरा मन कर रहा था कि किसी तरह मेरा लंड इसके हाथ में आ जाए। लेकिन अभी मैं ऐसा कोई कदम उठाने से डर रहा था। 

तभी एकदम से मम्मी ने चलने के लिए आवाज लगा दी तो उसने हाथ छोड़ दिया और हम लोग नीचे आ गए। हम लोग अब पैदल ही घर जाने लगे। रास्ते में वो फिर से मेरा हाथ पकड़ रही थी और मेरा लंड उछलता रहा। 

उनके घर आने के बाद हमने रात का खाना खाया और फिर सोने की तैयारी होने लगी। हमारे रूम में एक डबल बेड था। मेरी बहन मेरी मम्मी के पास सोने की जिद करने लगी क्योंकि वो मेरी मॉम को बहुत प्यार करती थी और मेरी मम्मी भी उसको बहुत प्यार करती थी। 

मालकिन की चुत की करि चुदाई – 2

रात ने बेहेन सोई एक साथ

मैं भी सोचकर खुश था क्योंकि रात को सोते समय मुझे भी शायद उसके बदन को छूने और सहलाने का मौका मिलने वाला था। हम लोग उसी बेड पर लेट गए और मैं एक कोने में लेटा था। मेरी मम्मी दूसरे कोने में लेटी थी जबकि मेरी बहन बीच में लेटी थी। 

थोड़ी देर के बाद जब मम्मी सो गई तो वो खर्राटें लेने लगी। ये देख मेरी बहन ने मेरे हाथ पर हाथ रख दिया। मैंने उसकी तरफ घूमकर देखा तो उसने चुपके से मेरे होंठों पर अपनी उंगली रख दी। मैं उसका इशारा समझ गया और जब तक मैं कुछ करने की सोचता वो थोड़ी सी सरक कर मेरे कम्बल के अंदर आ गई। 

मेरे लंड में एकदम से तनाव आने लगा और मैंने उसके हाथ को पकड़वाकर अपने लंड पर रखवा दिया। उसने लंड को तो नहीं पकड़ा लेकिन हाथ रखे रही। उसके हाथ को मैंने अपने लंड पर दबाए रखा और जल्द ही मेरे लंड में वासना के झटके लगने लगे। 

बार बार लंड उसके हाथ के नीचे उछलने लगा। मैंने उसके होंठों पर उंगली फिरानी शुरू को तो उसने मुंह खोल दिया। मैंने उंगली उसके मुंह में दे दी और वो उसे चूसने लगी। मुझे मजा आने लगा और लंड में और ज्यादा तनाव आने लगा। अब मेरा लंड जैसे ऐंठने लगा था।

Leave a Comment