मम्मी की सहेली और चुदाई की पहेली – 1

हाय, मैं एक नया नया बिजनेसमैन हूं और अपने घर से ही अपना सारा काम करता हूं। मेरी कमाई ठीक ठाक कमाई है और अभी शादी नहीं हुई है। हालांकि मेरी उम्र लगभग 32 साल हो गयी है लेकिन कुछ मजबूरियों और मेरी खुद की आर्थिक उथल-पुथल के चलते अभी तक शादी की नौबत नहीं आई है। 

जैसा कि आप‌ लोग जानते ही होंगे कि शादी ना होने पर भी आपके शरीर की यौन आवश्यकताएं तो पूरी करनी ही पड़ती हैं और जब वो ना पूरी ना हो रही हों, तो खुद से ही उन्हें शांत करना पड़ता है। 

चलिए खैर … अब उस दिन की बात शुरू करते हैं, जिस दिन की घटना मैं आप सभी से मॉम फ्रेंड सेक्स कहानी के रूप में साझा करने जा रहा हूं। मेरी‌ माता जी की एक सहेली हैं वो उनकी किटी पार्टी की सहेली। 

उनका नाम पूनम है। पूनम आंटी की उम्र यही कोई 40 वर्ष की होगी लेकिन देखने में सिर्फ 35-36 की लगती हैं। उनकी कोई सन्तान भी नहीं हुई है। ये उनके जीवन का सबसे बड़ा दुख है।

स्कूल की मैडम को नंगा करके चोदा – 2

मम्मी के जाने पर हो गया कुछ ऐसा 

लेकिन मित्रो, यहां बात इसकी भी नहीं है, बात तो बस कुछ हालातों से हुई घटना की है। उस दिन मेरी माता जी और पिता जी किसी आवश्यक काम से शहर से बाहर गए हुए थे और घर में मैं अकेला था। 

बाहर मौसम बारिश का बन रहा था लेकिन अभी बारिश हो नहीं रही थी। मैं भी नहा धोकर, नाश्ता वगैरह करके अपने कमरे में अपना लैपटॉप खोलकर अपने काम में लग गया था। लगभग एक घंटा बाद मेरे दरवाजे की घंटी बजी। 

देखा तो बाहर पूनम आंटी बारिश में पूरी भीगी हुई खड़ी थीं। मैंने तुरन्त उन्हें अन्दर आने को कहा और कमरे से अपनी तौलिया लाकर दी। पूनम आंटी बताने लगीं- अरे बेटा निखिल क्या बताऊं … तेरे अंकल मुझे चौराहे पर छोड़कर खुद ऑफिस निकल‌ गए। 

और चौराहे से तेरे घर की तरफ बढ़ी, तो एकदम से बारिश शुरू हो गयी। मैंने सोचा कि घर नजदीक ही है तो फटाफट पहुंच जाऊंगी लेकिन आते आते पूरी भीग गयी। ये बताती हुई वो अपने बाल पौंछ रही थीं। 

फिर आंटी ने अपना चेहरा वगैरह सब पौंछा। लेकिन वो पूरी तरह भीग चुकी थीं। कुछ पल बाद उन्होंने पूछा कि मम्मी कहां हैं तेरी? मैं बोला- आंटी, मम्मी और पापा तो शहर से बाहर गए हैं, रात तक वापस आएंगे। 

ये सुनकर आंटी थोड़ी परेशान सी हो गईं और बोलीं- तेरे अंकल भी अब अपने ऑफिस पहुंच गए होंगे और अब शाम‌ को ही मुझे वापस लेने आ पाएंगे। बाहर मूसलाधार बारिश शुरू हो चुकी थी जो रुकने का नाम ही नहीं‌ ले रही थी।

होटल में बुझा दी बुआ की प्यास – 3

आंटी आयी भीगी हुई घर पर 

आंटी ने बोला- चल अच्छा मैं तेरी मम्मी के कपड़े पहन लेती हूं, तब तक तू मेरे कपड़े मशीन में डालकर सुखा दे। मैंने उनको‌ जवाब दिया- आंटी, मम्मी तो अपना कमरा बन्द करके गयी हैं, तो आपको उनके कपड़े तो नहीं मिल पाएंगे। 

हां लेकिन आपको मैं अपने कपड़े दे देता हूं। आप जल्दी से चेंज कर लो, वर्ना इतनी देर भीगे कपड़े पहने‌-पहने आपको‌ सर्दी लग सकती है। आंटी ने कुछ सेकेंड सोचा, फिर बोलीं- हां, सही कह रहा है तू, चल दे अपने कपड़े, वही पहन लेती हूं और तू मेरे भीगे कपड़े मशीन से सुखा लाना। 

मैंने बोला- जी आंटी। मैं अपनी अलमारी से आंटी के लिए एक टी-शर्ट और एक बाक्सर निकाल‌ कर ले‌ आया। मैंने उनको कपड़े पकड़ा दिए। मेरी टी-शर्ट और बाक्सर देखकर वो थोड़ा सा हंसी और बोलीं- अरे निखिल मैं ये पहनूंगी क्या? कम से कम लोअर तो देते। 

मैंने कहा- आंटी, मैं गर्मी में लोअर नहीं पहनता और इनमें क्या दिक्कत है। गर्मी में इन्हीं कपड़ों में आराम मिलता है। अब आप ये सब सोचना छोड़िये और फटाफट कपड़े बदल लीजिए, तब तक मैं आपके लिए गर्मागर्म चाय बना‌ लाता हूं। 

फिर लौट कर आकर आपके कपड़े भी सुखा दूंगा। मेरी बात सुनकर‌ आंटी ने कहा- चल अच्छा, अब यही पहनने हैं तो क्या कर सकती हूँ। तू जा, मैं कपड़े बदलकर बाहर ही रख दूंगी और तेरे कमरे‌ में बैठी हूं। 

जल्दी से चाय लेकर आ जा, इस मौसम में चाय पीने का मज़ा ही कुछ और है। मैं गया और चाय बनाने लगा और मन में ये सब ही चल रहा था कि‌ यार मैं अच्छा खासा काम कर रहा था और इसी में आंटी आ गयीं।