मौसी की बेटी को समझाया चुदाई का मतलब

मेरी 2 मौसी है और उन दोनों के पास ही अपनी लड़कीआ भी है। यु तो में उन सभी से बड़ा हु पर वह भी उम्र में अब 18-19 साल की हो गयी है। मै उनसे बहुत बाते भी करता था और वह जब भी मुझसे मिलती थी बहुत खुश होती थी। 

वह सभी मुझसे प्यार से गोलू बुलाती थी और मै  भी उनसे काफी लाड जताता था। एक दिन की बात है मेरी बड़ी मौसी की लड़की हमारे घर घूमने आयी हुई थी। मै अपने कमरे में ऊपर ही बैठा हुआ था और हमेशा की तरह वह मुझसे ढूंढते हुए मेरे कमरे  आ गयी। 

मै अपने कमरे में लेता हुआ सेक्स के बारे में ही सोच रहा था और लड़कीओ की नंगी तस्वीरें भी देख है था। मेरी मौसी की लड़की का नाम विमला भानु था और वह सीधा मेरे कमरे में आकर मेरे पास कड़ी हो गयी। 

वह मुझसे किसी बचे क तरह ही पेश आती थी क्युकी मै उससे बड़ा था। अब वह मेरे पास काफी देर तक खड़ी रही और कुछ देर बाद मुझसे कहने लगी की उसे मुझसे एक बात पूछनी है जो बहुत जरूरी है। 

मेने उसे बोलने के लिए कहा। भानु ने धीरे सी आवाज में मुझसे कहा की आज उसकी दोस्त ने उसे एक शब्द बताया था जिसका मतलब उससे जानना है। मीने उसे शब्द बोलने के लिए कहा। भानु ने मुझसे पूछा की यह चुदाई का मतलब क्या होता है। 

मै एकदम चौक गया पर मेने भानु से कुछ नहीं कहा क्युकी शायद वह अभी छोटी थी। भानु मेरे सामने टीशर्ट में खड़ी थी जिसमे उसकी बॉब्स तनाव में आते हुए उभार के साथ दिख रहे थे। वह मुझसे चुदाई के बारे में जानने के लिए जिद्द करि जा रही थी। 

Also Read: Antarvasna Story

मौसी की लड़की को चुदाई के बारे में बताया 

मेने भानु से कहा की चुदाई का मतलब प्यार होता है जो एक लड़का और लड़की करते है। भानु ने मुझे पूछा की क्या मेने कभी किसी लड़की से चुदाई करि है। मेने भानु को रोका और अहा की यह प्यार अलग होता है जो रात में किआ जाता है। 

भानु ने मुझे कहा की उसे कुछ भी समझ नहीं आ रहा है और वह चुदाई का मतलब सही से समझना चाहती है। मेने भानु से कहा की चुदाई एक भावना है जो दो लोगो के प्यार करने से आती है। 

भानु को अब भी समझ ना आया और मेरा सबर अब खत्म हो गया था। मेने भानु से कहा की चुदाई का मतलब सेक्स होता है जो रात में मजे करने के लिए करते है। भानु ने पूछा रात में ही क्यों ?

मेने भानु से कहा क्युकी लोग रात में ही काम से आते है अपनी बीविओं के साथ चुदाई करके मजे लेते है। भानु ने पूछा की क्या यह मजा बहुत अच्छा होता है ? मेने कहा की सेक्स करने से ज्यादा मजा और किसी चीज में नहीं आता। 

भानु ने मुझे कहा की अब उसे भी चुदाई करनी है क्युकी उसे भी वही मजे चाहिए जो लोग करते है। मेने उसे यह बात पर डॉट दिआ और भानु दुखी होकर कहने लगी की अब चुदाई का मतलब वह अपनी मम्मी मतलब मौसी से ही पूछेगी। 

मेने भानु को रोका और कहा की ऐसी बाटे मम्मी पापा से नहीं करते क्युकी यह चीजे शादी के बाद ही अछि लगती है। भानु फिर भी न मणि और कहने लगी की उसे भी मजे करने है वरना वह मौसी से ही सब अच्छे से पूछ लेगी। 

अब मेरी गांड फट गयी और मेने कहा की ठीक है तुम यही बैठ जाओ। भानु मेरे साथ बैठ गयी। मेने भानु को समझाया की चुदाई में शुरू में दर्द होता है जिसके बाद ही मजा आता है। भानु ने कहा की वह थोड़े दर्द के लिए भी तैयार है। 

मेने भानु से कहा की चुदाई के लिए उसे होने कपडे उतारने पड़ंगे और ऐसा  कहते ही भानु ने अपने सारे कपडे उतारने शुरू कर दिए। मै भानु को देखता ही रह गया और वह पल भर में ही मेरे सामने नंगी हो गयी। 

बेहेन के गीले बदन को दबोचा और मारी चूत दबादब 

अपनी मौसी की लड़की की चुदाई की प्यास मिटाई 

भानु को दोनों बूब्स छोटे आकर के थे जिनपर भूरे रंग के निप्पल खड़े हो रखे थे। भानु की चूत भी शायद पहले किसी ने पेल रखी थी जिसपर उसकी चूत का पानी लगा हुआ था। अब मुझे समझ आ गया की भानु चुदाई की प्यासी है और मुझसे चुदाई चाहती है। 

मेने भानु को अपने पास बिठाया और उसे कहा की चुदाई का मजा लेने के लिए वह अब तैयार हो जाये। भानु बहुत खुश हो गयी और मेने उसके होठो को चूसना शुरू कर दिए। भानु भी मेरे लंड को पकड़ते हुए होठो को चूमे जा रही थी। 

कुछ ही देर में मेरा लंड एकदम खड़ा हो गया और भानु उसे जोर जोर से सहलाये जा रही थी। अब भानु ने मेरे पजामे से लंड निकला और चूसना शुरू कर दिआ। भानु अपनी जीभ से मेरे लंड को जोर जोर से चाट रही थी और वह पूरा खड़ा हो गया। 

भानु अब सीधी लेट गयी और मुझे अपने ऊपर खींच लिआ। भानु ने मेरे भी सरे कपडे उतार दिए और मै उसके बूब्स की निप्पलों को चूसने लगा। अब मेरा लंड उसकी चूत पर घिस रहा था और वह चुदाई के लिए तड़प रही थी। 

मेने हाथ निचे करते हुए उसकी चूत पर अपना लंड सेट किआ और एक ही धक्के में अपना लंड उसकी चूत में घुसा डाला। भानु की चुदाई मेने जोर जोर से शुरू कर दी और भनु भी मस्त चुदाई का मजा लेने लग गयी। 

भानु कुछ देर में ही करहाना शुरू हो गयी जिससे मेरा जिस्म और भी गरम हो गया और मेने अपना लंड भानु की चूत की गहराई में देना चालू कर दिआ। भानु आआ आआ आए करती हुई मेरे लंड से चुदाई का मजा ले रही थी। 

अब मेरा लंड बहुत देर तक उसकी चूत में ही अंदर बहार चुदाई कर रहा था और झड़ने वाला था। मेने अपना लंड उसकी चूत में से निकलकर मुह्ह में दे दिआ और मुह्ह की चुदाई करने लगा। भानु के गले तक मेने अपना लंड फसा दिए और चुसाने लगा। 

भानु को शायद सास भी नहीं आ रही थी और वह मेरा लंड जोर जोर से चूसे जा रही थी। पर कुछ ही देर बाद मेरे लंड में तनाव आने लगा और भानु के मुह्ह में ही मेने अपना सारा वीर्य निकाल दिआ।

Leave a Comment