पडोसी की बीवी को पेला और दिए पैसे

हमारे पड़ोस में ही एक औरत रहती थी जिसका पति कोई भी काम नहीं करता था। वह मेरी पड़ोसन थी जिसका नाम रूपा था पर अपने नाम की तरह ही वह देखने में बहुत ज्यादा सुन्दर थी। 

उस औरत को देख कोई भी उसके रूप पर मोहित हो सकता था और उनमे से मै भी एक था। उसे देख मेरा दिल भी तेजी से चलने लगता था और मेरा लंड खुद ही खड़ा हो जाता था। 

अपनी पड़ोसन पर मेरी नजर बहुत ही पहले से थी पर जब जब उसका पति उसके पैसे लेके दारू पी लेता था मुझे उसपर बहुत ज्यादा तरस आता था। रूपा मुझसे कभी कभी बात भी करती थी और अपनी बाते भी बताती थी। 

वह एक फैक्ट्री में काम करती थी जहा से वह अपने बच्चो के लिए पैसे जमा करती थी और घर का खर्चा भी चलाती थी। मुझे उसकी गरीबी को देख कभी कभी लगता था की मै उसे अपने पेसे दे दू। 

पर ऐसे एकदू से उसे पैसे देना ठीक नहीं रहता। अब मेने एक दिन रूपा से कहा की अगर वह मेरे लिए काम करेगी तो मै उसे उस फैक्ट्री से भी अच्छे पैसे दे दूंगा। इस काम से मेरा मतलब घर के काम से था। 

पर मुझे नहीं पता था की रूपा मेरे लिए कुछ भी करने को तैयार है। रूपा ने मुझे कहा अगर मै उसे उस फैक्ट्री से भी ज्यादा पैसे दूंगा तो वह मेरे लिए कुछ भी करेगी और ऐसा बोलते हुए रूपा ने अपने जिस्म पर एक नजर भी डाली जिसका मतलब मै समझ गया। 

और भी ज्यादा सेक्सी कहाणिआ : Antarvasna Story

अपनी पड़ोसन की मदद करि चुदाई के बदले 

अब मेने रूपा से कहा की मै उसे बहुत पैसे दूंगा अगर वह मेरी हर बात मानेगी तो। रूपा ने भी अब मेरी हां में हां मिला दी और मुझे कहा की उसे किस समय काम के लिए आना है। 

मेने रूपा से कहा की वह जिस समय चाहे काम कर सकती है। रूपा ने मुझे कहा की वह आज 11 बजे आ जाएगी जिसके बाद वह अपना काम शुरू कर देगी। रूपा का पति शराबी थी इसलिए वह रात को आराम से मेरे पास आ सकती थी। 

अब जैसे ही 11 बजे रूपा ने मेरा दरवाजा बजाय और मेने रूपा को अपने घर में ले लिआ। रूपा ने हस्ते हुए बोला की बताओ मालिक कहा से शुरू करना है काम। मेने रूपा से कहा की ज्यादा काम मेरे बिस्तर वाले कमरे में है तो वह वह से शुरू कर सकती है। 

रूपा और मै अब मेरे बिस्तर वाले रूम में चले गए जहा मेने रूपा से कहा की वह वही पर लेट जाए। रूपा को पता था की मै उसे उसके जिस्म के लिए पैसे देने वाला हु इसलिए वह एक ही बार में बिस्तर पर लेट गयी। 

अब मेने खुद को भी रूपा के ऊपर गया दिआ और उसके बॉब्स मेरे जिस्म से चिपकते हुए दबने लगे। अब मेने रूपा के होठो को अपने आगोश में लिआ और चूसना शुरू हो गया। 

रूपा भी मेरे साथ साथ ही मेरे होठो का रसपान करने लगी और हम दोनों अब पूरी तरह से गरम हो चुके थे। मेने अब रूपा के कपडे खोलते हुए उसे पूरी तरह से नंगा कर दिआ। 

जीजा साली और चुदाई का खेल

पड़ोसन रूपा की चिकनी चुत की चुदाई 

मेने अब अपन कपडे भी जल्दी से निकाले और रूपा को अपनी बाहो में ले लिआ। रूपा का जिस्म ऊपर से लेके निचे तक पूरी तरह से गोरा था और उसकी चुत एकदम गुलाबी रंग की थी। 

रूपा की चुत पर एक भी बाल नहीं था और मेरे पूछने पर रूपा ने बताया की उसने आज ही बालो को साफ़ किआ है मेरे लिए। अब मेने अपने हाथ से कुछ देर तक रूपा की चुत को मसला और उसे हवस से भर दिआ। 

निचे से मेने अपना लंड उसकी चुत के छेद पर रखते हुए अंदर डाला और एक ही बार में मेरा लंड उसकी चुत में घुस गया और मेने जोर जोर के झटको के साथ चुदाई शुरू कर दी। 

रूपा आह आह करते हुए अपनी चुत की चुदाई कर रही थी और में जोर जोर से अपना लंड चुत में अंदर बाहर किये जा रहा था। रूपा को भी चुदाई का पूरा मजा मिल रहा था और वह अपने बूब्स दबाते हुए सेक्स का मजा ले रही थी। 

अब मेने उसकी टाँगे अपने कंधो पर ली और निचे से लंड को वापस अंदर घुसा दिआ और झटके चालू कर दिए। अब मेरा लंड चुत के पूरी अंदर तक जा रहा था जिससे रूपा की चुत फटती जा रही थी और उसकी आहे तेज हो रही थी। 

दमदार झटको के साथ चुदाई काफी देर तक चली और कुछ 20 मिनट के बाद मेरे लंड से भी पानी आने लगा। मेने अपना लंड चुत से निकाल उसके मुह्ह में दिआ और वीर्य रूपा को पीला दिआ। 

Leave a Comment