दारू पिलाके करि लड़की की चुदाई – 1

मेरी उम्र 22 साल है और मेरा कद 6 फुट 1 इंच है। गठीला शरीर है और लौड़ा 7 इंच लम्बा व 3 इंच मोटा हथियार जैसा काफी मजबूत है। ये हॉट गर्ल सेक्सी स्टोरी तब की है, जब मैं अपने कालेज के अंतिम वर्ष में था। 

हम लोग पहले किराए के मकान में रहते थे, फिर हमने एक खुद का फ्लैट ले लिया। मेरी सेक्स कहानी इसी नए फ्लैट वाली सोसाइटी से शुरू होती है। हम जब यहां रहने आए, तब हमारे ब्लॉक में 3/4 फ्लैट ही रजिस्टर्ड हुए थे मतलब यहां पूरा ब्लॉक खाली रहता था। 

फिर हमारे पास ही एक आंटी जी और उनकी बेटी रहने के लिए आई। उन आंटी जी की उम्र लगभग 45 साल की थी। उनकी बेटी की उम्र लगभग 22 साल यानि वो मेरी हमउम्र ही थी। उनकी बेटी की हाइट थोड़ी कम थी, तकरीबन 5 फीट ही रही होगी। 

उनकी बेटी का नाम रवीना (बदला हुआ नाम) था। उसका फिगर 28-26-30 का था, ये मुझे उसको चोदने के बाद पता चला। वो दोनों जब पहली बार यहां रहने आईं, तब उनकी जानपहचान का यहां कोई नहीं था। 

दोपहर का समय था, मैं, मेरा बड़ा भाई और मेरी मौसी जी का लड़का सो रहे थे। अचानक से दरवाजे पर घण्टी बजी। वो दोनों गहरी नींद में सो रहे थे तो मैं दरवाजा खोलने गया। मैंने देखा तो सामने एक लड़की खड़ी थी। 

भाभी और देवर की चुदाई का किस्सा – 1

लड़की से हुई पहली मुलाकात

तो मैंने पूछा- हां बोलिए क्या काम है? उसने बोला- आप यहीं रहते हो क्या? पहले तो मुझके सवाल पर हंसी सी आई मगर मैं बोला- जी हां, मैं यहीं रहता हूँ। बोलिए क्या काम है? तभी उसके पीछे पीछे उसकी मम्मी भी आ गईं। 

वो थोड़ी उम्रदराज दिख रही थीं, तो मैंने उन्हें नमस्ते की। वो आंटी जी बोलीं- भैया हम अभी यहां नए आए हैं। हमारे फ्लोर पर तो कोई रहता भी नहीं है। सब खाली खाली सुनसान लग रहा था, आपके घर का दरवाजे पर लॉक नहीं था, तो सोचा आपसे ही बात कर लूं। 

उन्होंने मुझे अपना फ्लैट नंबर बताया। मैंने कहा- जी आंटी जी, आपको कोई प्रॉब्लम नहीं होगी। आप बिल्कुल बेफिक्र रहिए। उन्होंने हंस के जवाब दिया- जी भैया। मैंने कहा- अन्दर आइए चाय पी लीजिए। आंटी ने ना बोला और वो दोनों वहां से चली गईं। 

उनके आने का अभिप्राय ये था कि वो अपने साथ बिल्डिंग में रहने वाले लोगों से मेल मुलाकात करने आई थीं। कुछ दिन बीत गए। इसी तरह वो दोनों अपने ऑफिस से आतीं और मैं उन्हें नमस्ते आंटी जी बोल कर आगे निकल जाता।

भाभी और देवर की चुदाई का किस्सा – 2 

काफी दिन बाद हुई लड़की से मुलाकात

अब दो सप्ताह और निकल गए। वैसे मैं आपको बता दूँ कि हमारी इस सोसाइटी में हम लोगों का दबदबा था, जिससे यहां के अब लोग हमें अच्छे से जानते थे। हमने यह पर एक दो बार मामलों में अगुआई भी की थीं जिससे यहां के लोग हमें और अच्छे से जानने लगे थे। 

एक दिन जब मैं और मेरी मौसी का लड़का बाहर शॉप पर कुछ सामान लेने जा रहे थे तो उन्हीं आंटी जी की बेटी हमारे सामने से निकली। वो भी शायद दुकान से कुछ सामान लेकर जा रही थी। 

मैंने उसकी तरफ थोड़ा सा देखा तो वो भी हल्की सी स्माइल देकर चली गई। मुझे न जाने क्या हुआ कि मैं एकदम से उसके पीछे चला गया। मेरे भाई ने पीछे से आवाज लगाई- अरे कहां जा रहा है? मैंने उससे कहा- मैं बस 10 मिनट में आ रहा हूँ, आप यहीं रुको। 

फिर मैंने उस लड़की को पीछे से आवाज लगाई- एक्सक्यूज मी! वो एकदम से रुक गई और बोली- हां जी कहिए! मैंने उसकी हाथ बढ़ा कर कहा- हाय मैं विकास। उसने भी मुझसे हाथ मिलाकर कहा- हाय मैं रवीना। हम दोनों ने 5-10 मिनट वहीं खड़े खड़े बात की। फिर वो चली गई। 

उसके दो दिन तक वो मुझे नहीं दिखी। फिर एक दिन मैं नीचे से ऊपर अपने फ्लैट में जा रहा था तब वही ऊपर वाली लड़की कचरा डाल कर आ रही थी। तब उसने खुद से बोला- हाय कैसे हो? मैंने भी हंस कर जवाब दिया- जी मैं अच्छा हूँ, आप कैसी हैं? 

उसने कहा- जी, मैं भी एकदम अच्छी हूँ। उस दिन के बाद अक्सर हमारी मुलाकात ऐसे ही हाय हैलो से होती रही।  दारू पिलाके करि लड़की की चुदाई – 2 

Leave a Comment