पैसो के लालच में अपनी चूत चुदवाई

यह मेरी आपबीती कहानी है जो मै आप सभी को सुनाने जा रही हु। मेरा नाम शबनम है और मै अभी एक हाई क्लास रंडी हु जिसे चोदने के लिए बहुत बड़े बड़े लोग मोटा पैसा देने के लिए तैयार है। पर मेरे इस जगह पर होने की एक कहानी है जो मै आपको अब सुनाने जा रही हु। 

तो यह कहानी शुरू हुई जब हुई जब में सिर्फ 19 साल की थी और 12वी क्लास में पढ़  रही थी। दिखने में मेरा रूप थोड़ा सावला था और शरीर भी किसी घरेलु लड़की जैसा ही था। स्कूल में मेरे पीछे बहुत से लड़के भी पड़े रहते थे पर घर की एकलौती लड़की होने के कारण मै सभी लड़को से दूर रहा करती थी। पर लड़को से दूर होने के कारण मेरा दिन कभी कभी बहुत ही अकेला सा जाया करता था जिससे  से खुदसे प्यार करना सीख गयी थी। कई बार मै अपनी चूत  में उंगली करकर अपना शरीर शांत भी किआ करती थी।  ऐसा कई महीनो तक चलता रहा और मेने यह बाते अपनी कई सहेलीयो को भी बताई जिनके पहले से बॉयफ्रेंड से चुदवाया भी करती थी। वह मुझे अपनी भी सभी बाते बताया करती थी की कैसे उनका बॉयफ्रेंड उन्हें प्यार करता है और कामवासना से भरकर चुदाई के मजे भी देता है।  उनकी ये बाते सुनकर मेरा दिल भी कभी कभी चुदाई के बारे में सोचा करता था।  

किस करने के लिए दिए 1000 रूपये 

अपनी दोस्तों की बाते सुनकर मेरे पास सुवाये अपनी चूत खुजलाने के आलावा कोई और रास्ता नहीं बचता था। ऐसे ही और समय बीत गया और में अपना अकेलापन काटते हुए और भी कामवासना के प्रति इच्छुक हो गयी। एक दिन की बात है मै और मेरी दोस्त स्कूल से घर जा रहे थे की तभी हमें रस्ते में एक लड़के ने रोकते हुए मेरा ना पूछा।  हमने चुप चाप चलते हुए उसे कोई जवाब नहीं दिआ और अपने घर चले गए। अगले 2 दिनों तक वह लड़का मेरा नाम पूछता रहा पर तीसरे दिन वह लड़का अपनी गाडी लेकर आया जो की दिखने में बहुत ही ज्यादा महंगी थी। इस बार उस लड़के ने गाड़ी हमारे सामने लगाई और चिल्लाते हुए मेरा नाम फिर से पूछा। उसकी बड़ी गाडी और महंगे कपडे देखकर मेरी दोस्त उसके लिए पागल सी हो गयी और उसे हमारे नाम बता दिए। अब उस लड़के ने शबनम बुलाते हुए मुझसे उसकी गर्लफ्रेंड बनने के लिए कहा। मैने उसे अपने बारे में बताते हुए प्यार से मना कर दिआ जिसे वह लड़का उदास सा होते हुए अपनी गाडी में चला गया। मेरी दोस्त मुझ पर बहुत ही ज्यादा गुस्सा सी भी हो गयी थी पर मुझे बाद उस समय अपने घर की लाज के बारे में सोचना था।  

इसे भी पढ़िए : बुआ ने बुझाई अपनी हवस की आग और चुदवाई चूत

अब अगले दिन वह लड़का फिर से रास्त में मिला और मुझसे कुछ अकेले में बात करने को बोला। मेरी सभी दोस्त  मुझे अकेला छोरडकर आगे चली गयी और अब मै और वो लड़का अकेले रह थे। उस लड़के ने मुझे गाडी में बैठने के लिए बोला और कहा की अभी कुछ देर बाद हम वापस आ जायेंगे। मैने बिना कुछ सोचे गाडी में बैठकर उसका इंतज़ार करना चालू कर दिआ। अब कुछ समय बाद वह लड़का गाडी में आया और मुझसे किस करने के लिए बोलने लगा। मेरे मना करने पर उस लड़के में 500 रूपये का नॉट मेरे सामने रखा और दुबारा मुझसे किस करने के लिए कहा। मुझे कभी घर से इतने रूपये खर्च करने के लिए भी नहीं मिले थे। मेरी थोड़ी देर तक चुप रहने के बाद उस लड़के ने मुझे 1000 रूपये देने के लिए कहा और मुझसे किस करने की इजाजत मांगी। मैने पहले कभी किसी लड़के को चूमा नहीं था और मुझसे भी उसे किस करने की उत्सुकता होने लगी। मैने अब अपनी आँखे बंद कर ली और उस लड़के ने मेरे ऊपर आते हुए मेरे होठो पर अपने होठ रख दिए। मेरे शरीर में एक अजीब सा एहसास होने लगा और तभी उस लड़के ने मेरे होठो चूसना शुरू कर दिआ। अब मै ऊपर से लेकर निचे तक पूरी सुन हो गयी थी। वह लड़का मेरे होठो को किसी शरबत की तरह चूसे जा रहा था और मै भी उसकी इस हरकत में पूरी तरह खो चुकी थी। कुछ समय भरपूर किस के बाद वो लड़का रुक गया और अपनी सीट पर बेथ गया।  में अभी भी सदमे में ही थी जिसके बाद  उस लड़के ने मुझे गाडी से मेरे घर के पास छोड़ा और चला गया। 

रोज की मुलाकातों ने दिआ बहुत सारा पैसा 

अब वह लड़का मुझसे हर एक दिन छोड़ कर मिलने आने लगा और हर बार मुझे किस करने के लिए मुझे 1000 रूपये  देने लगा। मुझे अब इस सब की एक आदत सी पड़ गयी थी और मुझे धीरे धीरे मजा भी आने लगा था। ऐसे ही एक महीने में मैने 20 हजार रूपये जोड़ लिए थे जो मैने  अपने कपडे और बाकि दूसरे सामान लाने के लिए खर्च कर दिए। घर में मैने इन पैसो के बारे में बताते हुए एक इनामी रकम बताया जो की मुझे एक प्रतियोगिता जितने में मिली है। अब ऐसे ही कुछ दिन और बीत गए और मेरा अकेलापन भी दूर होने लगा था। पर कुछ दिनों बाद वह लड़का आना काम करने लगा और मेरे कारण पूछने पर उसने बताया की रोज रोज किस करने में उसे ज्यादा मजा नहीं आता और वह मेरे साथ सम्भोग करना चाहता है। मै यह सुनकर एकदम सुन सी हो गयी थी। और कुछ समय बाद उस लड़के ने मुझे बोला की वह मुझे इस काम के 15 हजार रूपये देगा और यह बात किसी को पता भी नहीं चलेगी।  

इतने पैसे सुनकर मेरे मन में लालच सा आ गया और मेने उसे सोचकर बताने की लिए बोल दिआ।  घर जाकर मैने इस बारे में बहुत सोचा कुकी इस चुदाई से मेरा अकेलापन भी दूर हो रहा था और मुझे पैसे भी मिल रहे थे।  कुछ दिनों बाद उस लड़के ने मुझे वापस रस्ते में रोका और मुझसे उसी मसले में बात करने लगा। मेने अपनी हां भरते हुए आगे 2 दिनों का समय दे दिआ। अब मै बहुत दर भी रही थी पर पैसो की लालच ने मुझे अँधा कर दिआ था।  

पढ़िए कैसे : बेहेन की दोस्त की सील तोड़ करी चूत चुदाई 

15 हजार के चक्कर में लड़के से चुदवाई अपनी कुवारी चूत 

अब वह दिन आ गया था, मै डरते हुए रस्ते में चल रही थी की इतने में लड़का अपनी गाडी लेते हुए आया और मुहे अंदर बैठने को कहा। कुछ देर गाडी से चलने के बाद उस लड़के ने गाडी एक होटल के पास रोकी और मुझे अपने साथ एक कमरे ले गया। मुझे थोड़ा थोड़ा डर भी लग रहा था पर पहले उस लड़के ने हमारे खाने के लिए कुछ खाना मंगाया। खाना खाने के बाद अब हम लोग आराम कर रहे थे की इतने में उस लड़के ने मुझे अपने कपडे उतरने को कहा। में बहुत डरी हुई थी और बिस्तर पर लेती रही। अब उस लड़के ने मेरे ऊपर आते हुए मुझे होठो पर किस करना शुरू किआ और धीरे से मेरा सूट ऊपर करके उतार दिआ। मुझे शर्म आने लगी और मेने अपनी दोनों आंखे बंद भी कर ली थी। वह लड़का मेरे होठो को बस चूसा जा रहा था और कुछ समय के बाद हिम्मत करते हुए मेने भी उसके होठो का रसपान शुरू कर दिआ।  अब उस लड़के ने मेरी ब्रा का हुक खोलते हुए मेरे बूब्स बहार निकलकर चूसने शुरू कर दिए।  मुझे अब एक अजीब सा अहसास हो रहा थे जिससे मुझे अच्छा लग रहा था। 

अब वह लड़का मुझे चूमता हुआ निचे की और सरका और मेरी सलवार को उतारकर मुझसे अलग करने लगा। मेरी पैंटी जो की पूरी तरह से गीली हो गयी थी उसे उसने अपने हाथो से उतारते हुए मेरी चूत को चूमना शुरू कर दिआ। यह अहसास मै आपको ब्यान नहीं कर सकती पर इस चूत चटाई से मेरी साँसे तक ऊपर चढ़ गयी थी। वह मेरी कुवारी चूत को अपनी जीभ से पूरी तरह चूस रहा था।  अब उस लड़के ने अपनी पैंट उतारी और मेरे सामने आते हुए अपना बड़ा और मोटा लंड मेरे मुह्ह में देने लगा। मैने इससे पहले कभी असली लंड नहीं देखा था पर जैसे पोर्न वीडियोस में मेने देखा था वैसे ही मैने उस लंड को चूसना शुरू कर दिआ।  शुरू में मुझे बहुत अजीब सा लग रहा था पर कुछ समय बाद मुझे लंड चूसने में मजा आने लगा।  में अपनी पूरी जान से उसके लंड को ऊपर से लेकर निचे तक चूसे जा रही और वह लंड भी धीरे धीरे मोटा और बड़ा होता जा रहा था।  

अब उस लड़के में मुझे वापस बिस्तर पर लिटाया और मेरी चूत पर अपना भयानक लंड रखकर रगड़ने लगा। मै पूरी तरह से डरी हुई थी पर हवस की प्यास की वजह से चुदाई के लिए तैयार भी थी। अब उसमे अपना लंड मेरी चूत में घुसाना शुरू किआ जिससे मुझे बहुत दर्द हो रहा था।  मेरी दोनों आंखे आसुओ भर आयी थी पर उस लड़के ने बिना कुछ देखते हुए अपना लंड मेरी चूत में पूरा घुसा दिआ।  मै पूरी तरह दर्द से पागल हो चुकी थी और वह लड़का मेरे बूब्स को दोनों हाथो से दबाये जा रहा था।  कुछ समय मेरे शांत होने के बाद उसने धक्के लगाने शुरू किये।  अब मुझे  भी अपनी चुदाई में  मजा आने लगा था।  मेरी चूत अब पूरी तरह से खुल चुकी थी और वो लंड पूरी तरह से मेरी चूत में अंदर बहार कर रहा था।  मुझे यह एहसास कभी पहले नहीं हुआ था और मुझे इससे अच्छा  भी लग रहा था। ऐसे ही उस लड़के ने मेरी चूत की चुदाई घंट तक करी जिससे मेरा बुरा हाल हो गया था। मेरी चूत पूरी तरह लाल हो गयी थी छेद भी बड़ा दिखने लगा था। शाम को चुदाई करने के बाद उस लड़के ने मुझे 15 हजार रूपये दिए और अलविदा कहते हुए गाडी से मुझे घर तक छोड़कर चला गया। ऐसे ही मैने उस लड़के से अपनी चूत की चुदाई बहुत बार कराई और बहुत सारा पैसा भी कमाया। अब मेरे 2 बॉयफ्रेंड भी है जिनसे में कभी कभी चुदाई का मजा उठाती हु और अपनी कामवासना को शांत कर लेती हु।  

ऐसी ही एक और कहानी : छोटे भाई के लंड से चुदवाई अपनी चुत

Leave a Comment