गाडी से लड़की पटाके करि चुदाई 

आज के जमाने में आप सभी को यह तो पता होगा की पेसो की कितनी चलती है। यहाँ आज एक से एक हरामी लोग है जो की पेसो की ताकत से कुछ भी पाने की शमता रखते है। और उन्हों हरमिओ में अब मै भी शामिल हो चूका था। 

अपना बिज़नेस सेट करने के बाद अब मै भी खुद पैसे वाला हो गया था। मेरी दोस्तों से भी अब मेरी नहीं बनती थी और सच कहु तो मुझे वह लोग चाहिए भी नहीं थे जो मेरे बुरे समय में साथ ना थे। 

पेसो का गुमान अब मेरे सर चढ़ गया था और मुझे यह पसंद भी आने लगा था। धीरे धीरे मुझे पेसो की आदत सी हो गयी थी और मुझे यह भी समझ आ गया था की आज की दुनिआ में हर चीज की एक कीमत होती है। 

ऐसे ही एक दिन मै अपनी गाडी में घूम रहा था। गाने मेरे तेज आवाज में चल रहे थे और उस दिन मेने थोड़ी सी दारू भी पी रखी थी। मुझे सही से याद नहीं है पर मै उस दिन किसी जशन से होकर ही आया था। 

अब रस्ते में जाते हुए मुझे एक लड़की दिखी जो दिखने बहुत ही ज्यादा सुन्दर थी। उसका जिस्म किसी भी लड़की से बहुत ज्यादा ही सेक्सी था और उनसे उस दिन छोटी ड्रेस पहनी हुई थी जिसमे उसके पैर नंगे हो रखे थे। 

उसने भी मुझे एक नजर में देखा और फिर अनदेखा कर दिआ। पर उसे देख कर मेरे सर से सारा नशा सा उतर गया था। अब मेने जल्दी से अपनी गाडी घुमाई और उसके पीछे जाने लगा। 

उसने पीछे मुड़कर मुझे देखा और मुझे एक प्यारी सी हसी दी। मेने अब उसे आवाज देके उसे रोका और उससे नाम पूछा। एक ही बार में उसने मुझे नाम बताने से मना कर दिआ। 

आंटी ने चूसा मेरा लंड और अपनी चुत में लेके करवाई चुदाई

लड़की को पटाया पेसो की ताकत 

पर अब जैसा की मेने कहा था की आज की इस दुनिआ में हर चीज की कोई ना कोई कीमत तो होती ही है। और मेने अब अपने पेसो की ताकत उसे दिखानी शुरू की। 

मेरे उलटे हाथ में सोने की 2 उंगुठिआ थी और मेने उस हाथ से अपने बाल सवार उसे देखा। उसने मेरा हाथ एक ही बार में देख लिआ और अब मेने अपना फोन भी गाडी से निकाल उसे दिखाया जो की लाखो का था। 

अचानक अब उस लड़की का बर्ताव सही हो गया और वह मुझसे प्यार से बात करने लगी। अब मेने उसका नाम पूछा और उसने मुझे अपना नाम पूजा बताया। मेने पूजा से कहा की क्या हम दोनों कहीं घूमने चले और उसने हामी भर दी। 

अब मेने उसे गाडी में बिठाया एक ऐसे रोड पर ले गया जहा कोई आता जाता नहीं था। मेने उसे कहा की कही जाने से पहले मुझे उसे किस करना है। उसने कुछ देर सोचा और किस करने के लिए राजी हो गयी। 

अब मेने उसे अपनी सीट पर बुला लिआ और वह मुझे किस करने लगी। मेरे हाथ उसकी गांड को दबा रहे थे और वह मेरे होठो को चूसे जा रही थी। मेने अब अपना हाथ उसकी टीशर्ट में घुसा दिआ और उसकी ब्रा पीछे से खोल दी। 

चोदो मगर प्यार से – दोस्ती में चुदाई का मजा 

गाडी में करि लड़की की चुदाई 

पूजा भी इतनी गरम हो चुकी थी वह मुझे कुछ भी ना बोल पाय पाई. ब्रा खोलने के बाद मेने उसके चुचे दबाने शुरू कर दिए और उसे उठाते हुए मेने उसके बूब्स को भी चूसना शुरू कर दिआ। अब मेने अपनी सीट लिटा दी और वह मी ऊपर आ गयी। 

कुछ देर तक वह मुझे चूमती ही रही पर अब मेने उसे निचे कर दिआ और उसकी टीशर्ट ऊपर कर उसके बूब्स को दबाया और अच्छे से चूसा। वह कामुक होने लगी थी और आहे भरे जा रही थी। 

मेने अब अपनी कार की दराज में से कंडोम निकाला और वह समझ गयी की अब मै उसकी चुदाई करने वाला हु। मेने अब उसकी पेंट का बटन खोला और उसने अपनी पेंट खुद निचे कर ली। 

मेरा लंड पहले से ही खड़ा हो  रखा था जिसको मेने पेंट से बहार निकल कंडोम पेहेन लिआ। मेने अब उसकी टाँगे ऊपर करि और लंड को चुत पे रखा। छेद मिलते ही मेने जोर का धक्का मारा और लंड अंदर घुसा दिआ। 

अब मै पूजा की चुदाई करने लगा और गाडी जोर जोर से हिलने लगी। सारे शीशे पहले से ही बंद थे जिसमे पूजा की आहे गूंज रही थी और मेरे लंड के झटको से पूजा चुदाई कराते हुए आह आह आह करे जा रही थी। 

यह चुदाई काफी देर चली और मेने पूजा की चुत को चोद चोद कर गुफा जैसा कर दिआ था। मेरा माल निकलने के बाद हम दोनों ने कपडे पहने और कुछ खाने के लिए चले गए। 

बाद में मेने पूजा को उसके घर भी छोड़ा और पूजा से उस दिन के बाद मेने कभी वापस से मिलने की कोशिश नहीं करि और बाकि लड़कीओ की चुदाई करने के पीएलए में लग गया। 

Leave a Comment