पार्क में जाके किये चुत के दर्शन और मिला चुदाई का मौका 

मै जिम का बहुत ही ज्यादा शौकीन था पर मुझ पर इतने पैसे नहीं थे की मै महंगी महंगी जिम में जाकर अपनी बॉडी पर ध्यान दू। इसलिए  मुझे किसी ने बताया था की सुबह पार्क में दौड़ लगाने से सेहत भी अछि रहती है और बॉडी भी बनती है। 

यह सुन मै भी अब दौड़ लगाने के लिए सुबह उठने लग गया। मेरा ऑफिस सुबह 8 बजे का था इसलिए मेने सुबह सुबह 5 बजे ही दौड़ लगाना शुरू कर दिआ। अभी पार्क में कोई भी नहीं था। 

मै अपनी दौड़ शुरू कर चुका था और मुझे काफी समय भी हो गया था इसलिए मै अभ थोड़ी देर के लिए रुक गया और एक कोने में जाकर बेथ गया और अपनी बॉटल से पानी पिने लगी। 

मुझे  बैठे हुए कुछ ही देर हुई थी की तभी मेरे पास एक सुन्दर सी और अमीर दिखने वाली औरत आयी और उसने मुझे कहा की उसे भी मेरी बॉटल से पानी है क्युकी वह अपनी बॉटल नहीं लायी है। 

दौड़ लगाने के कारण वह भी पसीने में हो गयी थी इसलिए मेने बिना सोचे ही उसे पानी दे दिआ। अब कुछ देर बाद मेने डोडो लगाना फिर से शुरू किआ और वह औरत भी अब मेरे साथ ही दौड़ने लगी। 

मुझे बहुत अच्छा लग रहा था क्युकी पार्क में सुबह कोई भी नहीं आता था और अब मुझे एक साथी भी मिल गयी थी जो की एक औरत थी। इससे मेरी पुरुष भावना भी खुश थी क्युकी मेने आजतक ज्यादा लड़कीओ से बाते नहीं की है। 

अब रोज ही हम दोनों साथ एम् दौड़ लगाने लगे और वह मुझ से कई बाते पूछती की मै कहा रहता हु और मुझे क्या क्या पसंद है। ऐसे ही अब हमें एक हफ्ता साथ में बीत गए और उसने मुझ से कहा की क्या मेरी कोई गर्लफ्रेंड है ?

चोदो मगर प्यार से – दोस्ती में चुदाई का मजा 

लड़की बनकर आयी बहुत ही सेक्सी 

मेने उससे कहा की मै उन चीजों से थोड़ा दूर ही रहता हु पर मेरे दोस्त कई लोग है जो मुझे बहुत ही ज्यादा प्यारे है। वह कुछ देर चुप हो गयी और अब उसने मुझे कहा की क्या वह मेरी दोस्त बन सकती है ?

मेने उसकी बात मै हामी भरी और उसे कहा की ठीक है। अब अगले दिन वह थोड़ी लेट हो गयी और मै 5 बजे सही समय पर आ गया था। कुछ देर रुकने के बाद वह भी आ गयी पर वह आज कुछ ज्यादा ही सेक्सी दिख रही थी जिसे देख मै भी अपनी हवस काबू नहीं कर पा रहा था।

अब उसने मेरे साथ दौड़ना शुरू किआ और उसके बूब्स पर से मेरी नजर नहीं हट रही थी क्युकी वह बहुत ही ज्यादा ऊपर निचे हो रहे थे। उसने मुझे देख लिए और वह थोड़ा सा हसने लगी और पूछा की मै उसे ऐसे को देख रहा हु। 

मै शर्मा गया और उसे कहा की वह आज कुछ ज्यादा ही अलग दिख रही है। उसने मुझे कहा की उसे पता है उसके कपडे कुछ ज्यादा ही ढीले है जिससे उसके बूब्स ऊपर निचे हो रहे है पर उसे यह पसंद है क्युकी इससे वह आजाद महसूस करती है। 

भाई ने लंड को खिलौना बनाके चोदी मेरी चुत 

लड़की को पार्क के कोने में चोदा 

मै शर्मा गया और अब उस लड़की ने कहा की इसमें शर्माने की कोई बात नहीं है क्युकी यह सिर्फ बूब्स है और मर्द इन्हे देख उत्तेजित हो ही जाते है और उसके लिए बूब्स ज्यादा ख़ास नहीं है और मै भी उन्हें आराम से देख सकता हु। 

मुझे हसी आ गयी और उसने मुझे कहा की वह मजाक नहीं कर रही है। अब उसने मेरा हाथ पकड़ा और मुझे कोने में ले गयी और अपने टॉप निचे कर दिआ और कहा ली लो देख लो मेरे बूब्स। 

मुझसे खुद पर काबू नहीं हुआ और मेने अपने हाथ से उसके बूब्स को सहलाना शुरू कर दिआ। उसने भी मुझे कुछ नहीं कहा और कुछ ही देर में हम दोनों सम्भोग की स्तिथि में आ गए। वह मेरे होठो को जोर जोर से चूसने लगी और मै उसके बूब्स दबाता रहा। 

अब वह निचे बैठी और मेरे लंड को चूसते हुए खड़ा कर दिआ और पीछे होते हुए अपनी पजामी निकाल दी। उसकी चुत थोड़ी काली पर बिना बाल की थी जो की गीली हो चुकी थी। 

अब उसने मुझे अपनी तरफ खींचा और मेरा लंड अपनी चुत के छेद पर रखा और पीछे होक लंड अंदर ले लिआ और चुदना शुरू कर दिआ। खड़े खड़े ही हम दोनों परक के कोने में चुदाई कर रहे थे और वह हफ्ते हुए मजे से मेरा लंड चुत में ले रही थी। 

मै अपना लंड तेजी से उसकी चूतमे अंदर बाहर कर रहा था जिससे मेरे लंड में भी लालपन आ गया था और चुदाई करते हुए हमे बहुत मजा आने लगा। पहली बार चुदाई के कारण कुछ ही देर बाद मेरे लंड से वीर्य निकल गया जो मेने जमीन पर गिरा दिआ। 

अब उस औरत ने मुझे प्यार से देखा और मेरे होठो को वापस से कुछ देर चूसा और अपना नंबर दे दिआ। इसके बाद मेने आगे भी पार्क में ही उस औरत की चुत कई कई बार मारी और मजा किआ। 

Leave a Comment