पति के जाने पे की हवस पूरी – 1

दोस्तो, मेरा नाम प्रिय्या  है। मैं रांची की रहने वाली हूं। मैं 24 साल की हूं। मेरी हाइट 5 फीट 2 इंच है और मेरी फिगर का साइज 34-30-34 है।  मेरी शादी लॉकडाउन से 4 दिन पहले मेरी शादी 16 मार्च को हुई थी। 

मेरे पति का नाम अनिल है जो एक दूसरे शहर हजारीबाग़ में एक कंपनी में काम करते हैं। मेरे हस्बैंड भी दिखने में अच्छे खासे हैं।  शादी के बाद 17 मार्च को मैं अपने ससुराल आई। 

जैसे ही ससुराल आई तो मेरे पीरियड शुरू हो गए।  मेरे सारे अरमानों पर पानी फिरने लगा क्योंकि मैं अपनी पहली चुदाई को लेकर बहुत उत्साहित थी। मुझे सेक्स का बहुत क्रेव था। 

रात को रिसेप्शन हुआ।  उसके बाद सबने खाना खाया और फिर रात में मेरी ननद मुझे मेरे पति के कमरे में ले गई।  मैं सोच रही थी कि मैं अपने पीरियड्स के बारे में अपने पति को क्या बोलूंगी।  

कुछ देर के बाद पति रूम में आ गए और ननद बाहर चली गई।  पति मेरे पास बेड पर आए और मुझे एक गुलाब और एक रिंग देकर मुझे ‘आई लव यू’ कहा।  मैं सोच में थी।  

फिर उन्होंने मेरा घूंघट उठा दिया। वो बोले- क्या बात है, तुम कुछ परेशान दिख रही हो? मैं- हां … थोड़ी सी। वो बोले- क्या बात है? 

मौसी ने लिआ मेरा मोटा लंड अपनी मोटी चुत में 

पहली रात नहीं हो पाया सेक्स 

मैंने कहा- मेरे पीरियड्स शुरू हो गए हैं। वो बोले- बस इसी को लेकर परेशान हो क्या?  मैंने कहा- हां। वो बोले- कोई बात नहीं, जब ये खत्म हो जाएंगे तो तब हम सेक्स कर लेंगे। परेशान होने की जरूरत नहीं है। 

अब सो जाते हैं, सुबह से फिर बहुत सारे काम करने हैं।  इस तरह से मैं और मेरे हस्बैंड पहली रात को ऐसे ही सो गए। उस दिन नयी नवेली दुलहन की चुदाई होने से रह गयी।  

रिवाज के हिसाब से अगले दिन मुझे मायके जाना था तो वो मुझे लेकर मायके गए।  उसके बाद वहां से आने के बाद उनको ऑफिस से कॉल आ गया और जल्दी से जाने की बात करने लगे। 

सासू मां ने पूछा तो बोले- ऑफिस जाना होगा, बहुत जरूरी है।  सासू मां बोली- तो फिर बहू को भी ले जाओ। वो बोले- ठीक है, जैसा आप कहो। फिर मैं भी तैयार हो गई और सारी पैकिंग कर ली।  

हम लोग हजारीबाग पहुंच गए। हजारीबाग में मेरे पति ने घर शादी से पहले से ही जमा लिया था।  वहां पहुँचते ही मेरे पति तुरंत अपने ऑफिस चले गए। फिर वो 7:00 बजे शाम को वापस आए।  

मैंने उनके लिए खाना बनाया और हमने खाना खाया। अगले दिन भी वैसा ही रहा।  फिर तीसरे उनको ऑफिस के काम से चेन्नई भेजा जाना था। वो बोले कि तीन दिन का काम है। 

Hindi Sex Stories पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

पति के दोस्त पे आ गया दिल 

मैंने पूछा कि मैं अकेली कैसे रहूंगी?  वो कुछ सोचने लगे और फिर किसी को कॉल किया। 10 मिनट के बाद घर की बेल बजी और एक लड़का अंदर आया। पति ने बताया कि ये रमेश है, मेरा ऑफिस का दोस्त है, और हमारे ऊपर वाले फ्लोर पर रहता है।  

मेरे पति ने रमेश से कहा- ये तुम्हारी भाभी है, मैं तीन दिन के लिए चेन्नई जा रहा हूं। तुम इनका ख्याल रखना। कुछ सामान चाहिए तो लाकर दे देना।  फिर उन्होंने रमेश से मुझे मिलवाया और फिर पैकिंग करके जाने लगे। 

रमेश ने मेरा नम्बर लिया और वापस चला गया।  मेरे हस्बैंड ने मुंबई पहुंचकर फोन किया।  उनकी फ्लाइट सुबह की थी तो वो मुंबई घूमने चले गए। फिर शाम को अचानक टीवी में न्यूज आई कि पूरे देश में लॉकडाउन लग गया है।

हस्बैंड का फोन आया तो मैं रोने लगी और बोली- मुझे यहां फंसाकर चले गए आप!  वो बोले- तुम टेंशन मत लो। मैं आ जाऊंगा। तब तक रमेश तुम्हारे साथ रहेगा, वो ऊपर अकेला ही रहता है। 

मैं बोली- मैं उसे अपने रूम में नहीं रखूंगी। वो बोले- नहीं, अपने रूम में नहीं बोल रहा हूं, उसको दूसरे रूम में रहने देना।  उसके बाद हमने कुछ प्यार भरी बातें कीं और फिर फोन रख दिया।

अगले दिन फिर शाम को मैंने रमेश को फोन किया। बाजार से कुछ सब्जी लानी थी।  वो मुझे सब्जी लाकर दे गया।  मगर जाते हुए अपना लंड बार बार सहला रहा था। मैंने उसको देखा लेकिन इग्नोर कर दिया।  पति के जाने पे की हवस पूरी – 2 

Leave a Comment