शादी में मिली लड़की की भी कर दी चुदाई – 2

वो मेरी तरफ देख कर मुस्कुरा रही थी। मैंने उसके करीब आते ही दिलप्रीत को अपनी बांहों में भर लिया और उसे दीवार से चिपका कर चूमने लगा। वो भी मेरा साथ देने लगी। मुझे ऐसा लग रहा था कि ये तो मुझसे भी ज्यादा अधीर थी। 

हम दोनों एक दूसरे को पागलों की तरह चूमने लगे थे। हमारा ये चुम्बन दस मिनट तक चला। फिर हम दोनों अलग हुए तो मेरा पूरा मुँह उसकी लिपस्टिक से लाल हो गया था। वो मुझे देख कर हंसने लगी। 

मैंने उसे अपनी गोद में उठाया और बेड पर पटक कर उस पर चढ़ गया। मैं उसके मम्मों को दबाने लगा और ड्रेस के ऊपर से ही उसके मम्मों को किस करने लगा। मैंने जैसे ही उसकी चूत को हाथ लगाया, वो आंह कहती हुई उछल पड़ी। 

मैं उसकी चूत को ड्रेस के ऊपर से ही रगड़ने लगा। फिर मैंने उसकी ड्रेस उतार दी। वो बस ब्रा पैंटी में मेरे सामने थी। मैंने ब्रा को भी उतार दिया और उसके मम्मों को देखकर पगला गया। मुझसे रहा नहीं गया और में उसके दोनों मम्मों को बारी बारी से चूसने लगा। 

उसके मुँह से आह आह की आवाज निकलने लगी। कुछ पल बाद मैं उठा और नीचे आकर उसकी पैंटी को भी खींच कर अलग कर दिया। उसकी चूत देख कर मैं पूरा हिल गया। एकदम गोरी टमाटर सी फूली लाल गुलाबी चूत मेरे सामने थी और पूरी पानी में भीगी हुई थी। 

जैसे ही चूत मैंने पर जीभ लगाई, वो उई करके पीछे खिसक गई। मैंने उसकी जांघों को पकड़ कर अपनी तरफ खींचा और दोनों पैर खोल कर उसकी चूत को नीचे से ऊपर तक चाटने लगा। 

उसने अपना हाथ मेरे सिर पर रखा और चूत में दबाने लगी। मैं आंख बंद करके उसकी चूत चाटे जा रहा था, वो आह आह कर रही थी। फिर मैं चूत में उंगली डाल कर जोर जोर से अन्दर बाहर करने लगा। 

भाभी की रंगोली और कपड़ो के दाग 

हवस से भरी लड़की पड़ी थी बिस्तर पे 

उसने मेरा हाथ पकड़ा और बोली- आह बेबी मेरा निकल जाएगा … प्लीज़ छोड़ो। मैंने उंगली और तेज कर दी और कुछ ही पलों में उसकी चूत से पानी निकल गया। वो तेज सिसकारी लेती हुई शांत हो गई। 

वो लम्बी लम्बी सांस लेती हुई मुझे देख रही थी। अचानक से उसने मुझे अपने ऊपर खींच लिया और किस करने लगी। उसने मेरी शर्ट को खोल दिया, पैंट भी खोल दी और अंडरवियर के ऊपर से लंड पकड़ लिया। 

फिर उसने मेरा अंडरवियर भी उतार दिया और लंड हिलाने लगी। उसने चूड़ियां पहनी हुई थीं तो वो जितनी तेजी से लंड हिला रही थी, उतनी जोर से छन छन की आवाज आ रही थी। उसने मुझे बेड के कोने पर बिठा दिया और घुटने पर बैठ कर मेरा लंड चूसने लगी। 

मेरा तो मुँह खुल गया, पहली बार किसी लड़की ने मेरे लंड को मुँह में लिया था। मैंने सामने आईने देखा तो दिलप्रीत की मोटी मोटी गांड बहुत सेक्सी लग रही थी। वो आंख बंद करके मेरा लंड बहुत प्यार से चूस रही थी। 

कुछ मिनट में मेरा हालत पतली हो गई और मेरा पानी निकल गया। मैंने उसे खड़ा किया और पीछे घुमा कर उसकी गांड को चूमने लगा। क्या सॉफ्ट गांड थी उसकी! मुझे और कंट्रोल नहीं हुआ तो मैंने उसे बेड पर लिटा दिया। 

वो मेरी तरफ वासना से देखने लगी। मैं उसके पैरों के बीच में आ गया। मैंने उसके दोनों पैर हाथ में लेकर ऊपर को उठा लिए और लंड उसकी चूत पर घिसने लगा। उसकी चूत पूरी गर्म महसूस हो रही थी। उसने अपनी टांगें मेरे कंधों पर रख दीं। 

मैंने उसकी चूत थोड़ी खोल कर लंड के टोपा अन्दर फंसा दिया। उसने आह करते हुए आंखें बंद कर लीं। मैंने धीरे धीरे पूरा लंड अन्दर डाल दिया और उसे प्यार से चोदने लगा। धीरे धीरे मैंने रफ्तार बढ़ाई तो दिलप्रीत भी लंड का मजा लेने लगी। 

वो ‘आह बेबी … आह …’ करने लगी। ये मेरा पहली बार था इसलिए दस मिनट में मैं थक गया और रुक गया। दिलप्रीत ने मुझे धक्का देकर बाजू में सुला दिया और मेरे ऊपर चढ़ गई। 

उसने फटाक से लंड पकड़ कर चूत में ले लिया और गांड आगे पीछे करने लगी। मैंने उसका निप्पल पकड़ कर उसे अपनी तरफ खींच लिया और गले लगा लिया। मैं इतनी ज्यादा जोश में आ गया था कि मैंने उसकी कमर पकड़ी और नीचे से उसे स्पीड में चोदने लगा। 

भाभी ने दिया अपनी चुत की चुदाई का ऑफर

बाथरूम सेक्स का भी लिआ मजा 

उसने उठने की कोशिश की लेकिन मैं उसे पकड़ कर लंड पर खींच रहा था। पूरे रूम में उसकी गांड से लंड के गोटे लगने से थप थप की मधुर आवाज आ रही थी। मैंने कुछ मिनट तक उसे फुल स्पीड में चोदा। वो भी आह आह करती रही। 

जब मुझे लगा कि मेरा होने वाला है तो मैंने लंड बाहर निकाल लिया और माल बेड पर गिरा दिया। हम दोनों पूरे पसीने से भीग गए थे और पूरा चादर गीला हो गया था। कुछ देर बाद मैं फिर से तैयार हो गया। 

ये आज तक कभी नहीं हुआ था कि मुठ मारने के बाद इतनी जल्दी मेरा लंड फिर से तैयार हो गया हो। मैंने उसे डॉगी बना दिया और उस पर चढ़ कर उसे चोदने लगा। उसकी गोल गोल गोरी गांड देख कर मुझसे रहा नहीं जा रहा था। 

मैंने उसकी गांड पर जोर से चांटा मार दिया। मैंने महसूस किया कि उसे वो चांटा बहुत जोर से लगा था इसलिए वो उन्ह करती हुई जल्दी से आगे हो गई और चूत में से लंड निकल गया। 

वो थोड़ी सी गुस्सा हो गई। मैं उसका हाथ पकड़ कर उसे बाथरूम में लेकर आ गया और शॉवर चालू करके उसे किस करने लगा। मैंने खड़े खड़े उसकी चूत में लंड डाला और चोदने लगा। 

मैंने उसकी गांड पकड़ ली और उसकी आंखों में देखते हुए उसकी चूत पेलने लगा। ये पल सबसे बेस्ट पल था। हमने बाथरूम में बीस मिनट तक सेक्स किया और एक दूसरे को साफ़ करके बाहर आ गए। 

रात के दो बज चुके थे। सेक्स के चक्कर में हमने खाना भी नहीं खाया था। मैंने कपड़े पहने और नीचे खाना लाने चला गया। नीचे लगभग सभी लोगों का खाना हो चुका था। उधर मुझे जैनब दिखी। वो मुझे देख कर हंसती हुई मेरे पास आई। उसे शायद सब पता था। 

मैंने उससे हमारे लिए खाना लाने के लिए कहा और उसने लाकर भी दिया। मैं ऊपर चला आया, तब तक दिलप्रीत ने सब साफ करके रखा था। हम दोनों ने साथ में खाना खाया और मैं उसको लंबी सी किस करके दुबारा करने के लिए कहने लगा। 

मगर उसने मना किया और थकान के कारण अब वो सोना चाहती थी। मैं अपने कमरे में आ गया। अगले दिन सब सामान्य था। मेरी उससे दोस्ती काफी समय तक चली, मगर सेक्स नहीं हो सका। 

Leave a Comment