भाई बेहेन और एग्ज़ाम से पहले चुदाई – 3

जब मेरी बहन की चुदाई पूरी हो गई, तो मैं वहां से निकल गया। एक घंटे बाद जब मैं वापस आया, तो अंतरा अपने रूम में बैठ कर पढ़ रही थी। मैंने अंतरा को कुछ नहीं बोला। 

रात को मैंने उसे वीडियो दिखा दिया, वो एकदम से डर गई। वो बोली- भैया माफ कर दो।। अब ऐसा नहीं होगा। मैं- एक शर्त पर माफ कर दूंगा।। तुम्हें मुझसे चुदना होगा। वो शर्मा गई। 

मैंने उसे अपनी बांहों में ले लिया। वो बोली- मैं तो आपसे न जाने कबसे चुदने के लिए मरी जा रही थी। मैंने पूछा- क्यों? वो बोली- मैंने आपका लंड देखा है, ये बहुत बड़ा है। मैंने कहा- तो फिर कभी बोला क्यों नहीं? 

वो बोली- मैं शर्म रही थी कि कहीं आप नाराज न हो जाओ। मैंने कहा- मेरी प्यारी बहन की चुदाई कब से चल रही है? वो बोली- आज दूसरी बार किया है। मैंने पूछा- पहली बार किसके साथ किया था। 

वो बोली- अब इस सवाल का जबाव बहुत लम्बा है, आपको बाद में सब बता दूंगी। उसने अपनी सील टूटने का किस्सा मुझे बाद में बताने का वायदा किया। मैं अपनी बहन की सील टूटने की चुदाई की कहानी को आप तक जरूर भेजूँगा। 

उसने कहा- अब देर न करो भैया। मुझे बड़ी जोर से मस्ती चढ़ रही है। मैंने अंतरा की चूत को सहलाया और अपनी बहन को नंगी करके चित लिटा दिया। फिर मैंने अपना लौड़ा निकाल कर अंतरा की चूत में घुसाने की कोशिश की। 

लेकिन मेरा लंड उन चारों लौंडों से कम से कम दो इंच लम्बा था और मोटा भी बहुत ज्यादा था। इसलिए मेरा थोड़ा सा ही लंड अन्दर गया था। अंतरा को उससे दर्द तो हुआ, लेकिन वो चूंकि दिन में चुद चुकी थी, इसलिए उसने ज्यादा चिल्लपों नहीं की। 

मगर मुझे उसकी कसी हुई चूत में लंड पेलने से दर्द होने लगा था। तब भी मैं किसी तरह से अंतरा की चूत में लौड़ा घुसाने लगा और कामयाब भी हो गया। अंतरा ने भी लंड लेने में मेरी मदद की। उसको खुद ही मेरा लंड लेने में मजा आ रहा था।

इंटरनेट से चुदाई मिलने की ख़ुशी – 1

भैया से भी ले लिआ मोटा लंड 

मैंने अपनी बहन की चूचियां दबाईं और उसके होंठ भी चूसे। उसके बाद मैं पूरा लंड पेल कर अपनी बहन अंतरा की झटके देते हुए चुदाई करने लगा। अंतरा की चूत अभी भी काफी टाइट थी। 

बाद में मैंने अंतरा की चूत में अपना पूरा लौड़ा घुसा दिया था। मैं अपना लंड अंतरा की चूत में अन्दर बाहर करने लगा। वो भी मुझसे चुदने का खूब मजा ले रही थी। मैं अंतरा की चूचियां दबाने लगा, वो भी मुझे चूमने लगी। 

फिर मैं अपना सुपारा अंतरा की चूत तक बाहर निकाल कर जोर जोर से उसको पेलने लगा। मुझे बहुत मजा आ रहा था। कुछ देर बाद मैंने अपना लंड निकाल कर अंतरा को चूसने को बोला। 

अंतरा ने एक पल भी देर ना करते हुए मेरे लंड को अपने मुँह में डाल लिया और चूसने लगी। अंतरा के द्वारा लंड चुसाई करने से मेरा लंड और सख्त हो गया। कुछ ही देर में मेरा माल निकलने वाला था। 

मैंने बिना अंतरा को बताए ही उसके मुँह में ही रस को निकाल दिया। अंतरा भी उसको जूस की तरह पी गई। फिर हम दोनों आपस में चिपक गए और किस करने लगे। कुछ देर के लिए हम ऐसे ही चिपक कर लेटे रहे और एक-दूसरे की जुबान को चूसते रहे। 

अब अंतरा ने कहा- अब और मत तड़पाओ।। बस मेरी पूरी आग बुझा दो। मैंने अपना लंड अंतरा की चूत पर रखा और जोर से धक्का लगा दिया।। मेरा लंड अंतरा की चूत में पूरा अन्दर तक चला गया। अं

तरा जोर से चिल्ला उठी- आऊ।। उम्म्ह … अहह … हय … ओह … ओक्ककह।। मर गई।। रे फट गई आह्ह।। चूऊत।। आह्ह। मैंने अंतरा को बहुत जोर से जकड़ लिया और उसके मम्मों को चूसने लगा। अंतरा जब चुप सी हुई।। 

तो मैं अपना लंड चूत में अन्दर-बाहर करने लगा। अंतरा और जोर से चिल्लाने लगी, मैंने उसकी आवाज को अनसुना करके अपनी स्पीड बढ़ा दी और अंतरा के होंठों को किस करने लगा। होंठों को दबाने से अंतरा की आवाज आनी भी कुछ कम हो गई। 

चुत का कर दिआ बुरा हाल आशिक़ ने – 1 

लंबी करि बेहेन की चुदाई 

उस दिन मैं अंतरा को बीस मिनट तक चोदता रहा। इस दौरान अंतरा दो बार झड़ चुकी थी। फिर मैंने अपना सारा रस अंतरा की चूत में ही छोड़ दिया। मेरी बहन को अपने भाई के साथ चुदाई में बहुत मजा आया। 

हम दोनों थक कर चूर हो गए थे और लेटे हुए थे। हमारे इस सेक्स प्रोग्राम में हमें टाइम का पता ही नहीं चला। मुझे अंतरा को और चोदने का मन था, पर इस वक्त हमारी बहन की चुदाई बीच में ही छूट गयी पर यह भी ज्यादा देर तक नहीं छूटा। 

दूसरी बार में अंतरा बिना कपड़ों के थी क्योंकि हमें अब किसी का डर नहीं था। मैं भी अपने कपड़े खोल कर अंतरा की चुदाई के लिए रेडी था। अंतरा ने मुझे किस करना शुरू कर दिया और हम दोनों ने सेक्स का पूरा मजा लिया। 

उस रात को हमने पूरी रात में तीन बार बहन की चुदाई का मजा लिया। फिर अंतरा ने अपने कपड़े पहन लिए। आज अंतरा तो इतनी ज्यादा खुश थी कि वो मुझे छोड़ ही नहीं रही थी। 

ऐसे ही हमारा यह चूत चुदाई का सिलसिला 4 दिनों तक चलता रहा। इसके बाद बहन की चुदाई का कार्यक्रम आज तक चल रहा है। मुझे जब भी मौका मिलता है, मैं अंतरा की चूत को शांत जरूर कर देता हूँ। 

जब भी अंतरा अपनी चूत की खुजली से ज्यादा परेशान हो उठती है।। तो मैं उसे कहीं बाहर ले जाकर उसकी चूत चोद कर उसे शांत कर देता हूँ। 

Leave a Comment