रंडी ने फ्री में दी अपनी चुत और बच गए मेरे पैसे

यह मेरी जवानी के दिन थे और में काफी समय से बिना किसी लड़की के रह रहा था। लड़कीओ से मेरा दूर दूर तक कोई भी रिश्ता नहीं था और जब भी मै किसी लड़की के करीब जाता था वह मुझसे दूर भाग जाती थी। 

इस बात से मै बहुत  परेशान हो चूका था और अब मेरी हवस भी मुझे कचोटने लगी थी। काफी दिन से मेरी नींद भी पूरी नहीं ही थी और अब मेने अंत में जेक अपने एक दोस्त के मदद मांगी। 

उसने मुझे बताया की यही पास इ एक रंडी का घर है जो की कुछ ही पेसो के लिए चुदाई करवा लेती है। मेने उससे उस रंडी का दाम पूछा  की वह 1500 में एक बार चुदाई करने देती है। 

यह पैसे मेरे लिए बहुत ही ज्यादा थे इसलिए मेने किसी भी रंडी की चुदाई करने का फैसला वही पर छोड़ दिआ। पर अब कुछ ही दी बाद मेरी हवस मुझसे सेहेन नहीं हो पा रही थी। 

मेने दिन में कई दिन मुठी भी मरी जिससे लंड में बहुत सूजन सी आने लगी थी। अब मेने सोच ही लिआ की मै रंडी की चुदाई करने के लिए जायूँगा और मेने अब पैसे जमा करने शुरू कर दिए। 

मेने अपने दोस्त से कुछ पैसे उधार भी ले लिए और अब मै किसी रंडी की चुदाई करने के लिए तैयार हो गया। मेने अपने दोस्त से उस रंडी के घर का पता लिआ और सुबह सुबह ही निकल गया। 

कुछ 1 घंटे बाद मै वह पहुंच गया और मेने देखा की वह बजार ही रंडीओ से भरा हुआ था जहा पर बहुत सारि औरते अपने जिस्म का सौदा कर रही थी। अब मेने भी अपनी नजर चार तरफ घुमाई। 

अँधेरे में छोटी बेहेन को दिआ अपना लंड

रंडी की चुदाई के लिए चला गया मै 

कुछ ही देर में अब मुझे एक रंडी पसंद भी आ चुकी थी जिसकी चुदाई करने का प्लान मेने बना लिआ था। मै उसके पास गया और मेने उससे उसका दाम पूछा और उसने मुझे 1300 एक बार की चुदाई के बताये। 

अब मेने उसे कहा की उसकी चुदाई के लिए मुझे कहा जाना होगा।  उसने इशारा करते हुए एक कमरा दिखाया और मुझे अपने साथ आने को कहा। मै भी अब जल्दी से उसके पीछा चला गया और और वह मुझे अंदर ले आयी। 

 अब उसने अगले ही पल अंदर से दरवाजा बंद कर लिआ और मुझे जिस पल का इन्तजार था वह आज आ ही चूका था। उसने अब अपने कपडे खोलने शुरू कर दिए और मुझे भी नंगा होने के लिए कहा। 

मेने भी अपने कपडे निकाल दिए और उसने मुझे कहा की में वही पर पड़ा हुआ एक कंडोम पेहेन लू। मेने वैसा ही किआ और खड़े लंड पर कंडोम को पेहेन लिआ। वह एकदम नंगी हो चुकी थी और मेरे सामने खड़ी थी। 

अब उसने अपने बूब्स को पकड़ा और सम्भलते हुए मेरे लंड पर आकर बेथ गयी और उसे अपनी चुत में ले लिआ। एक आह से साथ वह अब मुझसे चुदना शुरू हो गयी। 

वह जोर जोर से कूदते हुए मेरे लंड  को अपनी चुत में पकपक ले  रही थी और मुझे  भी निचे से लंड अंदर देने को बोल रही थी। मै भी चुदाई में खोया हुआ अपना लंड चुत में दिए जा रहा था और चुदाई करता जा रहा था। 

गांव में मिली हवस से भरी लड़की

लंड से नहीं निकला मॉल और रंडी हो गयी खुश। 

 चुदाई से हम दोनों ही पसीने से भीग चुके थे और वह भी हाफति हुई मेरे लंड पर धीरे धीरे कूद रही थी। उसकी चुत से भी सफ़ेद पानी आना शुरू हो गया और वह मुझे देख रही थी की मै निचे से अभी भी चुदाई कर रहा था। 

अब मुझे उसने कहा की मै उसके ऊपर आकर चुदाई करू। मेने वैसा ही किआ और ऊपर होकर चुत में वापस से लंड पेल दिआ और चुदाई करने लगा।  ऊपर से चुदाई में मुझे  और भी आसानी होने लगी और मेने तेजी से लंड चुत में देना शुरू कर दिआ। 

अब वह रंडी भी हवस से भर चुकी थी और मेरे लंड को अपनी चुत में इतनी देर से लेते हुए मुझसे खुश होकर मरवा रही थी। वह मुझे अपनी तरफ खींचती हुई मेरे लंड को अपनी चुत की खालो को अच्छे से मसलवा रही थी जिससे उसकी आहे निकलने लगी थी। 

अब चुदाई को काफी समय हो गया और उसने मुझे कहा की मै उसकी चुदाई करता ही रहु। और मेने अपना लंड और भी तेज तेज चुत में देना शुरू कर।  वह अब जोर जोर से चिल्लाने लगी और आह आह करने लगी। 

अगले ही पल उसकी चुत से काफी सारा पानी निकलने लग गया और वह चिल्लाती हुई मेरे लंड के ऊपर ही झड़ गयी। वह मेरी चुदाई से आज बहुत खुश हो गयी थी। 

उसने मुझे का की मुझे उसे पैसे देने की जरुरत नहीं है और अगल बार अगर मै  आयु तो उसकी ही चुत की चुदाई करू। 

Leave a Comment