मैडम की चुत को दी शांति – 3

शबनम मेम मुझे किस करती हुई रुक ही नहीं रही थीं। मैं उनकी चुत में लंड चलाते हुए रुकना भी नहीं चाहता था। शबनम मेम- आअह आह्ह यह्ह उम्म यह्ह अह्ह्ह ह्ह्ह्ह फ़क मी … आंह जरा रुक जाओ प्लीज … मुझे सांस तो ले लेने दो। 

मगर मैंने उनकी एक नहीं सुनी और धकापेल चोदता रहा। कुछ देर बाद शबनम मेम मस्ती से चुदाई का मजा लेने लगीं। मैंने चुत से लंड निकाला और उनको डॉगी स्टाइल में कर दिया।

वो कुतिया बनीं तो मैं पीछे से लंड चुत में पेल कर मेम की चुदाई करने लगा। शबनम मेम ने पहली बार पीछे से लंड लिया था और मेरे झटके पूरी तेजी से लग रहे थे तो वो मीठे दर्द से चीख रही थीं। 

शबनम- अह्ह अह्ह साले रुक जा … मैं मर जाऊंगी बेदर्दी … अह्ह्ह यह्ह ह्ह्ह उम्म उह हह! कुछ बीस मिनट बाद शबनम मेम की चुत से रस निकलने लगा।

मेरा भी वीर्य निकलने वाला था इसलिए मैंने स्पीड और तेज कर दी। शबनम मेम अब रोने लगी थीं- अह्ह अह्ह य्ह्ह् उम्म्ं मार डालोगे क्या। मैंने उनके बूब्स पकड़े हुए थे और उन्हें पकड़ कर मैं शबनम मेम की चुत में तेजी से धक्के मार रहा था। 

जब मेरा वीर्य निकलने लगा तो मैंने लंड बाहर निकाल लिया। शबनम मेम ने भी झट से पलट कर लंड मुँह में भर लिया और सारा वीर्य अपने मुँह में ले लिया। वो लंड को चूस चूस कर उसका रस खाने लगीं और एक बूंद भी खराब न करती हुई सारा माल निगल गईं। 

मौसी ने पकड़ा मेरा लंड और हिलाने लगी

मेडम की चुत का कर दिआ बुरा हाल

चुदाई के बाद मैं बिस्तर पर निढाल लेट गया और शबनम मेम मुझे किस करने लगीं। कुछ 15 मिनट बाद मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया। शबनम मेम ने चुत में फिर से लंड डालने से मना कर दिया तो मैं जबरदस्ती करने लगा और मैं एक बार फिर से लंड चुत में डाल कर उनको चोदने लगा। 

मेम की चुत सूज चुकी थी और वो बहुत तड़प रही थीं। मुझसे अपनी प्यारी टीचर का दर्द देखा नहीं गया और मैंने लंड चुत से निकाल कर उनके बूब्स के बीच में रखकर आगे पीछे करने लगा।

इस पोजीशन में शबनम मेम अपनी जीभ से लंड के आगे आने पर उसे चाट रही थीं। कुछ देर बाद मैंने शबनम मेम को उल्टा लेटने को बोला।

वो लेट गईं।

मुझे शबनम मेम की मचलती गांड मारने का मन हुआ। मैंने लंड के सुपारे पर थूक लगाया और शबनम मेम की गांड में डालने की कोशिश की। लेकिन मेम की गांड बहुत टाईट थी, तो मुझे ओर शबनम मेम को बहुत दर्द हुआ। 

मैंने तेल लगाकर शबनम मेम की गांड में लंड डाल ही दिया और धीरे धीरे से आगे पीछे करने लगा। शबनम मेम दर्द से कराहने लगीं। किन्तु मुझे आनन्द आ रहा था तो मैंने शबनम मेम के सेक्सी बूब्स पर हाथ रख कर उन्हें थाम लिया और गांड में लंड को तीव्र गति से आगे पीछे करना शुरू कर दिया। 

दोस्त ने प्यार से मरी मेरी चुत और दिआ चरमसुख

गांड में तेल लगाकर करि चुदाई 

शबनम- आह्ह आह्ह यह्ह्ह आउच हुम्म्म यह्ह फ़क ओह्ह्ह य्ह्ह्ह अह्ह अह्ह अह्ह। कुछ 15 मिनट बाद मेरा वीर्य शबनम मेम की सेक्सी गांड में ही निकल गया। 

करीब एक घंटे तक मेम को चोदने के बाद मैं काफी थक चुका था और शबनम मेम भी लस्त हो गई थीं। इस तरह से मैंने हॉट स्कूल टीचर को चोदा! कुछ देर बाद शबनम मेम बाथरूम चली गईं और आकर उन्होंने अपने कपड़े पहन लिए।

मैंने भी अपने कपड़े पहन लिए और बाहर हॉल में आकर बैठ गया। शबनम मेम दो मिनट बाद बाहर आईं और मुझसे कहने लगीं- मुझे बहुत दर्द हुआ … लेकिन मुझे तुम्हारा स्टाइल काफी पसंद आया। 

शबनम मेम ने मुझे हग करके मेरे होंठों पर किस किया और बोलीं- थैंक्यू अमन … आज तुमने जो मेरे लिए किया है, उसे मैं कभी नहीं भूलूंगी। तुम्हें कभी भी मन हो, मेरे घर आ जाना, मैं तुम्हें कभी मना नहीं करूंगी। 

ये सुनकर मैं खुश हो गया और मैंने अपनी टीचर से उनका फोन नम्बर ले लिया। फिर उनके एक गाल पर किस करके अपनी बाईक लेकर घर आ गया। इसके बाद मैंने शबनम मेम के साथ कई बार सेक्स किया और अभी भी उनकी चुदाई करता हूँ। 

दोस्तो, मैं आशा करता हूँ कि आपको मेरी ये सेक्स कहानी पसंद आयी होगी।  

Leave a Comment