माल बेहेन को चोदा मजे ले ले के – 1

मेरा नाम राहुल, मेरे लंड का साइज 7 इंच लंबा और 3 इंच मोटा है। मेरी चचेरी बहन का नाम अर्चना है। (बदला हुआ नाम) अर्चना की उम्र 23 वर्ष है। वह दिखने में ज्यादा गोरी नहीं है पर उसका बदन गदराया हुआ है।

उसकी गांड का उभार देखकर किसी का भी लंड खड़ा हो जाएगा। उसका फिगर 36-30-36 का होगा। मोहल्ले के सभी लड़के उसको पटाने के कोई न कोई बहाना ढूंढा करते हैं। वो मेरी चचेरी बहन है तो मेरा उसके घर आना जाना लगा रहता है। हम कानपुर शहर में रहते हैं।

शुरू से ही हम साथ में खेले और बड़े हुए। कई बार मैं उसके साथ बात करते करते उसकी बड़ी गांड को छू लिया करता था और उसके चूचे देखने का कोई मौका नहीं छोड़ता था। वो मुझे सीधा समझती थी पर मैं तो बस मौके की तलाश में रहता था कि कब मैं इसे चोदूँ।

मुझे डर लगता था कि अगर मैंने कुछ करने की कोशिश की तो कहीं ये मेरी मम्मी को न बता दे। मैं अर्चना की याद में मुठ मारा करता था। मैंने बहुत बार कोशिश की अर्चना को पटाने की … पर असफल रहा।

मैं उसे व्हाट्सएप्प पर गंदे मीम भी भेजा करता था। कज़िन सिस पोर्न कहानी 6 महीने पहले की है। एक दिन की बात है जब उसके घर वाले सब शादी में गये हुए थे, उसके घर पर वो अकेली थी। मैंने इसी बात का फायदा उठाया।

दूध वाले के साथ चुदाई का किस्सा – 1 

धीरे धीरे किआ बेहेन को गरम

उसका घर मेरे घर से ज्यादा दूर नहीं है, 2 मिनट की दूरी पर है, हम एक ही परिवार के हैं, सिर्फ घर अलग अलग है। मैंने मौके का फायदा उठाया और उसके घर पर चला गया।

मैं दरवाजे पर जाकर बोला- अर्चना, दरवाजा खोल, मैं हूँ राहुल! उसने दरवाजा खोला, मैं अंदर आ गया और उसके बेड पर उसके साथ बैठ गया। वो फ़ोन चला रही थी। उसने मुझसे पूछा नहीं कि क्यों आये हो।

क्योंकि हम पारिवारिक थे इसलिए शायद! फिर हम बात करने लगे। वो मुझे कुछ फोटो दिखा रही थी। घर पर कोई नहीं था तो मैं उससे सटकर बैठ गया और उसकी जांघ पर अपना हाथ रखकर सहलाने लगा धीरे धीरे! उसने कुछ नहीं कहा।

फिर मैं थोड़ी हिम्मत करके उसके थोड़ा और करीब सटकर बैठ गया और उसके कंधे पर हाथ रखकर थोड़ा चिपक गया। उसने टी-शर्ट पहना हुआ था। मुझे उसके 36 के बड़े बड़े दूध ऊपर से साफ दिखाई दे रहे थे।

अब मैं उसके फोन और बात पर ध्यान न देकर उसके बड़े चूचे देख रहा था और एक हाथ से उसके बाल संवार रहा था। वो मेरे इस बर्ताव से थोड़ा सा हिली और फिर नार्मल हो गयी।

इसी बीच उसके चूचे देखने की वजह से मेरा लौड़ा टाइट हो चुका था जो शायद उसने देख लिया था पर अनदेखा कर दिया था। फिर हम करीब 30 मिनट तक बात करते रहे। दोपहर का समय था, 2 बज रहे थे।

उसने मुझसे बोला- राहुल, अब मुझे नींद लग रही है। तुम अपने घर जाओ, मुझे सोना है। मैं उससे बोला- कोई बात नहीं, इसमें क्या दिक़्क़त है? और इतना बोलकर मैं उसके बेड पर लेट गया। मेरे पैर बेड से लटक रहे थे और मेरी शर्ट थोड़ी ऊपर हो गयी।

जिससे मेरे खड़े लंड का उभार साफ साफ दिखने लगा जिसे उसने देख लिया और घूरने लगी। फिर उसने मेरी तरफ देखा और फ़ोन चलाने लगी। 5 मिनट तक फ़ोन चलाने के बाद उसने अपना फ़ोन चार्जिंग में लगा दिया और बेड पर आकर बैठ गयी।

घर पर चाचा की बेटी को चोदा – 1

उसे देखते ही लंड हो गया खड़ा

मैं बोला- लेट जाओ न अर्चना … नींद लगी है तो सो जाओ! फिर मैंने उसका हाथ पकड़कर उसे बेड पे अपने साथ लेटा लिया। उसने कातिल सी मुस्कुराहट दी और लेट गयी। मेरा लंड लोहे की रॉड की तरह टाइट हो चुका था।

मैं उसकी तरफ करवट लेकर लेट गया औऱ अपना मोटा लंड पैंट के ऊपर से ही उसकी जांघों में सहलाने लगा। अब तक उसे पता चल चुका था, वो अब मेरे ख़ड़े लौड़े को अपनी जांघ पर महसूस कर रही थी और मुस्कुरा कर बोली- राहुल, यह क्या कर रहे हो?

मैं बोला- कुछ नहीं यार, करने दो ना! फिर वो चुप हो गयी और मैं लौड़ा रगड़ता रहा उसकी गांड के पास! उसकी बड़ी गांड का स्पर्श पाकर मेरा लौड़ा से पानी टपकने लगा। फिर मैंने उसको साइड से हग कर लिया।

वो मुझे मना करने लगी- राहुल, ये क्या कर रहे हो? कोई आ गया तो गड़बड़ हो जाएगी। मैं बोला- गेट बंद कर लो जाकर पहले! तो उसने मना किया। लेकिन फिर गेट बंद करकर वापिस बेड पर लेट गयी आकर!

मैं उसके ऊपर चढ़ गया और उसकी गर्दन चूमने चाटने लगा, उसके कान पर जोर जोर से किस करने लगा और अपना लंड उसके बदन पर रगड़ने लगा। वो मना करने लगी, मैं फिर भी उसे चूमता रहा।

फिर 2 मिनट बाद वो भी मेरा साथ देने लगी मुझे चूमने लगी, मेरे शर्ट के अंदर हाथ डालके मेरे सीने पर हाथ सहलाने लगी। हम लोगों ने 20 मिनट तक एक दूसरे के साथ खूब रोमांस किया होंठ से होंठ मिलाकर चूमे। अब तक हम लोग बहुत गर्म हो चुके थे। फिर मैंने उसकी टीशर्ट उतार दी और अपने भी कपड़े उतार दिए।