भाभी और मॉल के अंदर मजा – 1

एक दिन की बात है जब मेरे ऑफिस की छुट्टी थी। उस दिन मैं एक मॉल में अपने लिए कपड़े लेने गया था। कपड़े लेते हुए मुझे काफी देर हो गई थी तो मुझे भूख लगने लगी। मैं फूड सेक्शन में पिज्जा खाने चला गया। 

मैंने पिज्जा का ऑर्डर दिया और अपने ऑर्डर आने का इंतजार करने लगा। वहीं एक कपल बैठा था। उसमें एक 34 साल का आदमी और 29 साल की एक हॉट सेक्सी भाभी बैठी हुई थीं। जिन्हें देखते ही मेरा लंड बेकाबू हो गया था, फिर भी मैंने खुद पर काबू रखा। 

मैं जब अपने ऑडर का इंतजार कर रहा था, तभी मैंने उनकी बातें भी सुन ली थीं। भाभी के पति को ऑफिस के काम से 3 दिन के लिए जयपुर जाना था, उनका पति एक ट्रेवल कंपनी में काम करता था। मैंने उन दोनों की काफी बातें सुनी थीं तो मुझे सारा मामला समझ में आ गया था। 

कुछ देर बाद भाभी का पति वहां से निकल गया क्योंकि उसे पहले अपने ऑफिस में थोड़ा काम था, उसके बाद वो वहीं से 3 दिन के लिए जयपुर जाने वाला था। उन्होंने अभी तक ऑर्डर किया नहीं था। भाभी का मूड कुछ उखड़ा उखड़ा सा लग रहा था। 

शायद वो अपने पति के यूं तीन दिन के लिए जाने से नाराज थी। उसके पति के जाते ही भाभी का मूड कुछ और ज्यादा खराब हो गया था। मैंने सोचा ये मौका बिल्कुल सही है। उन्हें पटाकर चोदने का ख्याल तो मन में था, पर ये अभी दूर की कौड़ी थी। 

बेहेन को चोद कर किआ खुश – 1 

भाभी और उनके पति की लड़ाई का उठाया फायदा

फिर मैं भाभी की टेबल पर गया और उनसे हाय किया। उन्होंने भी सामने से हाय कहा। उन्होंने पूछा- आप कौन? मैंने अपने बारे में बताया और बोला- सॉरी मैंने गलती से आपकी बातें सुन लीं और आपके पति के जाते ही आपका मूड खराब हो गया, ये मुझसे देखा नहीं गया। 

इसलिए मैंने सोचा क्यों न आपके साथ थोड़ी बातें करके थोड़ा आपका मूड अच्छा कर दिया जाए। उन्होंने पहले मुझे गौर से देखा, फिर एक प्यारी सी स्माइल देकर थैंक्यू कहा। फिर हम दोनों ने साथ में खाना खाया और हमारे बीच बातों का सिलसिला चलता रहा। 

मैंने उनके बारे में पूछा तो उन्होंने बताया कि वो यू पी के एक गांव से हैं और अभी करीब एक साल पहले वो अपने पति के साथ दिल्ली शिफ्ट हुई हैं। मैंने उनके बच्चों के बारे में पूछा, तो उन्होंने बताया कि उनका कोई बच्चा नहीं है। 

उनकी शादी को अभी डेढ़ साल ही हुआ था। फिर भाभी ने मुझसे मेरे बारे में पूछा, तो मैंने जानबूझ कर झूठ बोला कि मैं अकेला रहता हूं। क्योंकि मुझे भाभी को चोदना था और जैसा मुझे लग रहा था कि भाभी पट सकती हैं। 

क्योंकि जब उन्होंने मेरे उनके पास आने पर कोई नकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं दी, तो मुझे लगने लगा था कि वो भी मुझे पसंद करने लगी थीं। मैं सोचने लगा कि भाभी का पति चूंकि एक ट्रेवल कंपनी में काम करता था तो वो भाभी के साथ ज्यादा समय नहीं बिताता होगा। 

ये ज्यादातर प्यासी ही रहती होंगी। तभी भाभी ने कहा कि मेरे पति 3 दिन के लिए जयपुर गए हैं, तो अगर मुझे कुछ काम होगा … तो क्या तुम कर दोगे? मैंने कहा- हां बिल्कुल कर देंगे भाभी जी। भाभी जी ने कहा- क्या आप मुझे अभी मेरे घर छोड़ सकते हो? मैंने कहा- बिल्कुल छोड़े देंगे जी। 

बेहेन को चोद कर किआ खुश – 2

पहुंच गए भाभी के घर

कुछ देर यूं ही बातों का दौर चलता रहा। मैं अनुमान लगाता रहा कि भाभी मेरे साथ कितनी सहज हो रही हैं और क्या ये मेरे लंड के नीचे आ सकती हैं। फिर मैं भाभी को बाइक पर बिठा कर उनके घर छोड़ने निकल पड़ा। 

रास्ते में बहुत खड्डे थे, जिस वजह से मुझे बार बार ब्रेक मारनी पड़ रही थी। इस कारण से जब भी बाइक गड्डे में गिरती और ब्रेक लगता तो भाभी की चूचियां मुझे रगड़ सुख दे रही थीं। 

मैं भी मजा ले रहा था और अपनी बाइक को जानबूझ कर कुछ ज्यादा ही उछाल रहा था। इसी वजह से मुझे भाभी के कड़क होते चुचे अपनी पीठ पर टच होते हुए महसूस हो रहे थे। 

अब मैं बार बार ब्रेक मारने लगा था तो भाभी को भी मजा आने लगा और वो भी मुझसे एकदम से चिपक कर बैठ गईं। भाभी बोलीं- सड़क में बड़े गड्डे हो गए हैं। तुम भी गड्डे से बचा कर चलो न! मैंने कहा- भाभी, मुझे गड्डे में गिरने में आदत हो गई है। 

भाभी ने मेरी बात का मर्म समझ लिया और बोलीं- कभी किसी गड्डे में गिरने से चोट न लग जाए। मैंने भी कहा- अभी तक ऐसा गड्डा मिला ही नहीं भाभी जी, जिससे मुझे चोट लग सके। भाभी हंसने लगीं और बोलीं- बड़े होशियार हो। मैंने कहा- नवाजिश है ऊपर वाले की। 

फिर हम दोनों इसी तरह की बातें करते हुए कब उनके घर पहुंच गए, हमें पता ही नहीं चला। घर में आकर भाभी जी ने मुझे चाय के लिए पूछा तो मैंने काम का बहाना मार कर उस समय मना कर दिया और उनसे जाने की इजाजत मांगी। 

भाभी और मॉल के अंदर मजा – 2

Leave a Comment