भाई बेहेन का खेल और चुदाई का नया मौका – 2

मेरी बेहेन एक एक करके मेरे होठो को चूस रही थी और मुझे चुम्बन किये जा रही थी। मेरी बेहेन की सांसे बहुत ही तेज हो चुकी थी और वह बहुत ही तेजी से मेरे ऊपर चढ़ती जा रही थी। 

अब मेने अपनी बेहेन को दूर किआ और कहा की वह यह सब क्या कर रही है और मै उसका भाई हु। मेरी बेहेन ने मेरी एक भी ना सुनी और मुझे अपना पति कहते हुए बोला की आज वह सब मुझे प्यार करना चाहती है। 

अब मेरी बेहेन ने मुझे लिटाया और मेरे ऊपर आते हुए चुम्बन फिर से शुरू कर दिए। अब मुझे भी हवस चढ़ने लगी थी और मेरा जिस्म भी हर मर्द की तरह गरम हो गया था।

वह मुझे बार बार गले पर और गाल पर किस करे जा रही थी जिससे मेरा जोश भी जाग गया था। अब मेरी बेहेन ने मेरा हाथ पकड़ा और कहा की मै भी उसे प्यार करू जिससे वह खुश हो जाए। 

मै भी अब उसके बूब्स को अपने एक हाथ से दबाने लगा  जिससे वह भी काफी मजे में आ गयी और अपने बूब्स को अच्छे से दबवाने लगी। अब मेरी बेहेन ने बैठते हुए अपनी टीशर्ट जल्दी से  निकाल दी। 

निचे उसने काली ब्रा पहनी हुई थी जिसे उसने एक ही झटके में खोल दिआ और अब मेरी दीदी के दोनों नंगे चुचे मेरे सामने थे। मेने अपने अब दोनों हाथ आगे किआ और उन्हें जोर जोर से दबाने लगा। 

वह मेरे ऊपर बैठी हुई मजे ले रही थी और बड़ी बड़ी आहो के साथ अपने बूब्स को दबवा रही थी। अब मुझे चूमते हुए उसने मेरे कपडे भी खोलने शुरू कर दिए और मेरी टीशर्ट निकाल जिस्म को चूमने लगी। 

लंड की प्यासी मेरी बुलबुल पड़ोसन

बेहेन ने चूसा लंड और करवाई चुदाई 

जैसे जैसे मेरी बेहेन मेरे जिस्म को चुम रही थी मेरे लंड में और भी ज्यादा तनाव आता जा रहा था और यह बात मेरी बेहेन को भी पता थी। अब उसने अपना हाथ निचे किआ और मेरे लंड को पकड़ लिआ। 

मेरे लंड को सहलाते हुए उसने मेरी पेंट खोली और लंड निकालकर चूसने लग गयी।  मुझे बहुत मजा आ रहा था और मुझे यह एहसास बहुत ही ज्यादा अच्छा लग रहा था। 

मै भी अपने हाथ से अपनी बेहेन का सर पकड़ कर लंड को चुसवाये जा रहा था और आज मेरी लंड बाकि दिन से भी बहुत ज्यादा बड़ा हो गया था। अब मेरी बेहेन उठी और उसने अपनी पजामी  उतार दी। 

मुझे समझ आ गया था की आज मेरी बेहेन अपनी चुत चुदाई करवाना चाहती है। वह तेज तेज सांसे ले रही थी और उसने जल्दी से अपनी पैंटी निकालते हुए मेरे लंड  को सीधा कर दिआ। 

उसने अपनी चुत मेरे लंड पर रखी और उसपर बैठ गयी। धीरे धीरे वह मेरा लंड पूरा अपनी चुत में ले चुकी थी और अब एक आह भरते हुए उसने ऊपर निचे करते हुए अपनी चुत चुदाई शुरू कर दी। 

वह बहुत ही आराम से मेरे लंड पर सवारी कर रही थी जिससे उसे काफी मजा आ रहा था और बड़ी बड़ी आह आह से साथ वह मेरे लंड को अपनी चुत में पूरा अंदर बाहर करवा रही थी। 

सुहागन भाभी को दिआ बच्चा और मुझे मिली चुदाई

बेहेन की चुत को मिली ठंडक 

वह अब जोर जोर से ऊपर निचे हो रही थी जिससे मेरा लंड उसकी चुत में  रगड़ खा रहा था और वह भी हवस से भर्ती हुई तेज तेज चिल्लाते हुए चरमसुख की तरफ बढ़ रही थी। 

मै भी अब निचे से अपना लंड उसकी चुत में गहराई में डालते हुए चुदाई कर रहा था जिससे वह बहुत मजे ले रही थी। अब मेने उसे पकड़ा और गले लगाते हुए निचे से चुदाई बहुत तेजी से करने लगा। 

वह आह आह धीरे कहते हुए  मुझसे चुदने लगी और मै बिना रुके उसकी चुत चुदाई जोर जोर से करने लग गया। उसकी करहाने की आवाज मुझे और भी गरम कर रही थी और मेरी चुदाई के धक्के और भी तेज हो रहे थे। 

अब मेने उसे सीधा किआ और अपनी कमर ऊपर करते हुए काफी जोर जोर से उसकी चुत ठोकने लगा। वह काफी जोर जोर से आहे ले रही थी और उसकी चुत से अब पानी आने लगा था। 

मेने उसे अब निचे किआ और ऊपर आते हुए चुत में वापस से लंड घुसा डाला। वह टाँगे खोलती हुई  बिस्तर पर लेट गयी और हवस में हम दोनों ने फिर से चुदाई शुरू कर ली। 

इस बार चुदाई के साथ मै उसके बूब्स की निप्पलों को भी चूस रहा था और निचे से मेरा लंड उसकी चुत को पेले जा रहा था और ऐसे कुछ देर चलने के बाद वह कापने लगी।

मेने चुदाई करते  हुए उसे देखा और वह अब झड़ने वाली थी। मेरा लंड अब भी जोश में था और मेने उसकी चुत चोदना नहीं रोका और कुछ ही देर में उसकी चुत से पानी का फवारा निकलने लगा और वह आहे लेती हुई वही झड़ गयी। 

Leave a Comment