लोकडायुन में लिआ बेहेन की चुदाई का मजा – 3

मुझे मेरी बेहेन की चुत चुदाई में बेहद मजा आ रहा था। मैं अपनी हॉट बेहेन से सेक्स का मजा लेता गया। कुछ पल बाद वो फिर से गर्म हो गई और मेरे झटकों का जवाब अपनी गांड उठा उठा कर देने लगी। मैंने उससे पूछा- कैसा लग रहा है बेहेन की लौड़ी?

वो भी गाली देती हुई बोली- चोद भैन के लंड … मुझे तेरे लंड से चुदने में बहुत मजा आ रहा है। मैंने कहा- अभी तो ये शुरुआत है … जब तक मैं तेरी चुत का भंग भोसड़ा न बना दूँ … तब तक मुझे चैन ही नहीं आएगा।

वो भी गांड उचकाती हुई बोली- मर गए मेरी चूत का भंग भोसड़ा बनाने वाले … साले तू बस अपनी बेहेन की चुत चोद … ज्यादा चुदुर चुदुर न कर! मैं भी उसको ताबड़तोड़ चोदने लगा और 15 मिनट के बाद झड़ गया।

मैंने सारा माल कंडोम में ही निकाल दिया था। झड़ कर मैंने अपनी बेहेन की बांहों में सो गया। थोड़ी देर बाद मैंने लंड चुत से बाहर निकाला और कंडोम हटा कर बेड के नीचे डाल दिया।

हम दोनों बगल बगल में लेट गए और एक दूसरे से खेलने लगे। मेरा लंड दस मिनट बाद फिर से खड़ा हो गया। मैंने अपनी बेहेन से कहा- चल अब तू घोड़ी बन जा। अब तेरी गांड मारूंगा। वो बोली- नहीं भाई, मैं बहुत थक गई हूँ … इतनी जल्दी घोड़ी नहीं सकती। 

मौसी ने लिआ मेरा मोटा लंड अपनी मोटी चुत में 

बेहेन की गांड मारी मजे से 

उसने कहा फिर तेरे लंड ने मेरी चुत का ही ये हाल कर दिया है तो मेरी गांड का क्या हाल होगा। मैंने कहा- कुछ नहीं होगा। मुझे तेरी गांड बड़ी अच्छी लगती है। मेरी बड़ी इच्छा है कि तेरी गांड का बाजा बजाऊं।

वो बोली- मेरी गांड एकदम कुंवारी है भाई। तेरे मूसल लंड से ये फट जाएगी। मैंने कहा- मैं बहुत प्यार से तेरी गांड मारूंगा। तुझे दर्द हुआ तो नहीं करूंगा। फिर तूने खीरा अपनी गांड में लिया तो है!

वो मान गई और कुछ देर बाद बोली- मैं तेल लाती हूँ। मैंने कहा- हां, जरा गुनगुना सा कर लाना। उसने हां बोला और खड़ी होकर नारियल का तेल गर्म करके लाने चली गई। 

पांच मिनट मरी बेहेन नंगी ही नारियल का तेल एक कटोरी में गर्म करके ले आई। उसने मेरे लंड पर तेल लगाया, तो मैंने कहा- मैं कंडोम यूज नहीं करूंगा। वो बोली- ठीक है। 

फिर उसने अपनी गांड के छेद में भी उंगली डालकर तेल लगाया और औंधी होकर लेट गई। मैंने कटोरी से तेल किया और उसकी गांड फैलाकर छेद में तेल डालकर उंगली चलाई। उसे मजा आने लगा था।

चिकनाहट के कारण वो मेरी उंगली को अपनी गांड में अन्दर तक लेने लगी थी। मैंने दो उंगलियां एक साथ अपनी बेहेन की गांड में डालीं और अपनी बेहेन की गांड के छेद को चौड़ाने लगा। 

मेरी बेहेन बोली- बस अब ठीक है। तुम लंड पेलो। मैंने अपनी बेहेन की गांड में अपने मूसल लंड को डालना शुरू किया। मैंने लंड का सुपारा अपनी बेहेन की गांड में पेला तो लंड अन्दर नहीं गया। फिर धीरे धीरे करके मैंने लंड पेला तो लंड अन्दर घुसने लगा।

मैं उसकी गांड में तेल की कटोरी से तेल टपकाने लगा तो गांड में चिकनाई हो गई और लंड अन्दर सरकता चला गया। दोस्तो, किसी भी नई गांड को मारना इतना आसान नहीं होता मगर तेल की चिकनाई भरपूर हो तो गांड में मोटे से मोटा लंड भी घुसेड़ा जा सकता है। 

दरअसल चुत खुद रस छोड़ती है, जिससे चिकनाई हो जाती है और लंड अन्दर चला जाता है। लेकिन चूत की तरह गांड रस नहीं छोड़ती है, उसे चिकना करना पड़ता है। मेरी सेक्सी बेहेन की गांड में मेरा मोटा लंड आधा अन्दर घुस गया था।

भाई और बेहेन का रात वाला प्यार 

बेहेन की दर्द भरी गांड भी मारी 

उसे दर्द हो रहा था मगर चिकनाई के कारण उसने मेरे लंड को झेल लिया था। मैं रुक गया और उसके दूध मसलने लगा। निप्पल मींजने लगा। इससे मेरी बेहेन मस्त होने लगी और गांड का दर्द भी कम होने लगा था। 

मैंने फिर से झटके मारना शुरू किए और 5-6 धक्कों में पूरा लंड गांड में चला गया। मैं कमर चलाने लगा तो मेरी बेहेन को दर्द होने लगा। उसने जोर से आवाज निकाल कर कहा- आह ये क्या कर रहा है भाई … धीरे से कर! लेकिन मैं नहीं माना और उसकी गांड में लंड आगे पीछे करने लगा। 

कुछ ही देर में वो भी मजा लेने लगी और बोली- इस बार तुम अपने लंड का माल मेरे मुँह में गिराना। मैंने कहा- ठीक है। मैं दस मिनट के बाद झड़ने को आया तो मैंने अपनी बेहेन की गांड में लंड निकाला और उसके मुँह पास ले आया। 

उसने भी झट से अपना मुँह खोल दिया और मैंने लंड का सारा माल उसके मुँह में निकाल दिया। वो पूरा माल पी गई और उसने मेरा लंड चाट कर साफ कर दिया। इसके बाद मेरी हॉट बेहेन बोली- भाई अब से जब भी तेरा मन हो, मुझको चोद देना और भाई से पूरा बेहेनचोद बन जाना।

मैंने भी कहा- हां मेरी रंडी बेहेना! फिर हम दोनों नंगे ही चिपक कर सो गए। वो सुबह चल भी नहीं पा रही थी। मैंने उसके लिए पेन किलर लाकर दी और वो दवा लेकर सो गई। उसके बाद हम दोनों ने हरेक रात में चुदाई का खेल खेलना शुरू कर दिया था।  

हमे कमेंट में जरूर बताइये की आपको हमारी कहानी किसी लगी। 

Leave a Comment