अंकल ने तोड़ दी मेरी चुत की सील – 1

मैं ललिता जोशी अन्तर्वासना की एक नियमित पाठिका हूँ। लॉकडाउन में जब मैं फ्री हुई, तो मुझे लगा मुझे भी अपने जीवन की रसीली कहानियां अन्तर्वासना पर लिखनी चाहिए क्योंकि मेरा जीवन सेक्सी कहानियों से भरा हुआ है। 

मेरा शुरू से ही भरपूर सेक्स में बहुत इंटरेस्ट था। मेरी सहेलियां मुझे अपने अपने बॉयफ्रेंड के साथ किए हुए सेक्स के अनुभव सुनाया करती थीं, इसी वजह से सेक्स में मेरी रुचि और बढ़ती चली गयी। 

मैं सेक्स क्रेजी गर्ल बन गयी। जवानी में कदम रखते ही, मतलब 19 वर्ष की उम्र में मेरे साथ पहली बार सेक्स हुआ। आज मैं 38 वर्ष की हूँ और अब तक मैंने 64 लंडों का स्वाद चख लिया है। 

मेरे पहले लंड से लेकर 64 लंड तक की सभी कहानियां मैं आपको क्रमवार सुनाना चाहती हूं। यह एक ही कहानी में संभव नहीं है, इसीलिए मैंने इन कहानियों के अलग-अलग भाग बनाए हैं। 

आगे बढ़ने से पहले मैं आपको अपने बारे में बता देना चाहती हूँ। मैं 38 वर्ष की भरी पूरी एक कामुक और सुंदर महिला हूँ। मुझे देखकर किसी का भी लंड खड़ा हो जाता है। 

आज भी 25-30 साल के लड़के मुझे जब देखते हैं, तो उनको लगता ही नहीं कि मैं उनके बराबर की नहीं हूँ इसीलिए वह मेरे आगे पीछे मंडराते रहते हैं। मेरा फिगर 36-28-38 का है।

लॉकडाउन में मिटाई भाभी की प्यास – 1

लंडो की थी में दीवानी 

वैसे तो मैं 12 साल के एक बेटे की मां हूँ लेकिन मुझे देखकर कोई भी कह नहीं सकता कि मैं शादीशुदा हूँ। आप यूं भी कह सकते हैं अलग-अलग लंड खाने की आस में मैंने अपने आपको काफी मेंटेन कर रखा है। 

मेरी शादी जयपुर में एक व्यापारी जय जोशी (बदला हुआ नाम) से हुई। वे भी बहुत स्मार्ट और जोशीले हैं। उनकी भी सेक्स में उतनी ही रुचि है, जितनी मेरी है। खैर … मैं अपनी पहली Xxx चुदाई की कहानी पर आती हूँ। 

जवानी के दिनों में मेरे पड़ोस में शर्मा अंकल और आंटी रहते थे, जिनकी उम्र लगभग उस समय 35-36 वर्ष होगी। उन लोगों से हमारा पारिवारिक मेलजोल था अक्सर वह या तो हमारे घर या हम उनके घर होते थे। 

एक दिन शर्मा आंटी अपने मायके में भाई की शादी का न्यौता देने हमारे घर आईं। उन्होंने मेरी मम्मी को सपरिवार आने का न्यौता दिया और कहा कि आपके भाई साहब (शर्मा अंकल) शादी में एक-दो दिन पहले ही आएंगे। 

आप लोग भी उनके साथ आ जाना। मेरी मम्मी ने शर्मा आंटी से कहा- हां भाभी जी, आप बिल्कुल आप निश्चिंत होकर जाइए। भाई साहब के खाने-पीने का पूरा ध्यान हम लोग रख लेंगे। 

लॉकडाउन में मिटाई भाभी की प्यास – 2

अंकल करने लगे मुझसे सेक्स की बात 

यह सुनकर शर्मा आंटी मन में निश्चिंत भाव लेकर अपने मायके चली गईं। अब शर्मा अंकल को सुबह की चाय, दिन का खाना, रात का खाना देने जाने की जिम्मेदारी मेरी हो गई। 

जब तक वह खाना खाते, मेरी उनसे खूब बातें होतीं। धीरे-धीरे मैं और शर्मा अंकल खुलकर हर तरह की बातें करने लगे। एक दिन उन्होंने मुझसे पूछा- ललिता तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड है क्या? मैंने कहा- नहीं। 

तो उन्होंने बड़े आश्चर्य से मुझसे कहा- तुम इतनी बड़ी हो गई हो और अभी तक तुम्हारा कोई बॉयफ्रेंड नहीं है। तुम तो इतनी सुंदर हो कि तुम्हारे पीछे तो हजारों लड़के पड़ते होंगे, फिर भी तुमने आज तक किसी को अपना बॉयफ्रेंड नहीं बनाया। 

तुम्हारा कोई भी बॉयफ्रेंड क्यों नहीं है? मैंने उनसे कहा- मुझे डर लगता है। उन्होंने मुझसे कहा- इसमें डरने की क्या बात है। आजकल तो सभी लड़कियों के बॉयफ्रेंड होते हैं। 

मैंने कहा- हां पर मेरी सहेलियां बताती हैं कि बॉयफ्रेंड बनने के बाद लड़के अजीब-अजीब हरकतें करते हैं। अंकल ने कहा- अरे पागल, उसे अजीब हरकतें नहीं … सेक्स कहते हैं। फिर आजकल सभी लड़कियां अपने बॉयफ्रेंड के साथ ये सब बड़े मजे से करती हैं। 

यह तो जीवन का एक परम सत्य है। मैंने अंकल से कहा- पर मुझे तो डर लगता है। अंकल ने कहा- अगर तुम चाहो तो मैं तुम्हारा डर भगा सकता हूं क्योंकि मुझे सेक्स का भरपूर अनुभव है। 

यह कहते हुए अचानक अंकल ने मेरा हाथ पकड़ कर मुझे अपनी बांहों में जकड़ लिया। अंकल की इस हरकत से मैं कुछ देर के लिए दंग रह गई। फिर मैंने अपने आपको संभाला और अंकल की बांहों से छूटने की कोशिश करती हुई मैंने उनसे कहा- आप कहां और मैं कहां … आप मुझसे कितने बड़े हो। 

अंकल ने मुझे बड़े प्यार से समझाया- इसमें बड़ा छोटा क्या होता है। सेक्स तो एन्जॉय करने की चीज है, जिसे एक अनुभवी आदमी किसी लड़की को ज्यादा अच्छे से एन्जॉय करा सकता। किसी नौसिखए के साथ सेक्स करने से ज्यादा अच्छा है कि तुम मेरे साथ सेक्स करो। मैं तुम्हें स्वर्ग का अहसास करा दूंगा।

Leave a Comment