बीवी के बाद बेहेन भी चोद दी – 3

नीतू ने पहले अपने होंठों से मेरे लंड को स्पर्श किया। उसी समय कोमल ने नीतू के एक मम्मे को दबाते हुए उसके सर को आगे कर दिया।  नीतू का मुँह दर्द से खुला और उसी समय बहन के मुँह में भाई का लंड घुस गया।  

थोड़ी ही देर में नीतू बड़े प्यार से लंड चूसने लगी। उधर कोमल नीतू के बूब्स मसलने लगी थी।  कुछ मिनट लंड चूसने के बाद कोमल ने नीतू को हटाया और नीतू को कमर पकड़ कर उठा कर बेड पर लिटा दिया; उसकी पैंटी को खींच कर निकाल दिया और ब्रा को भी।  

मैंने नीतू को थोड़ी अपनी ओर खींचा और उसके पैरों को फैला दिया। अब मैं अपनी बहन की चूत चाटने लगा।  बहन की चूत सील पैक चूत थी। मैंने खूब चाटी।  मैं अपनी बहन की चूत में जीभ घुसा घुसा कर चाट रहा था।  

उधर कोमल मेरी बहन के बूब्स मसल रही थी और उसे किस भी कर रही थी। इधर बहन की चूत भी काफी गीली हो चुकी थी।  लगभग दस मिनट तक चूत चूसने के बाद मैं अलग हो गया। 

मेरा लंड तो तैयार तो था ही अपनी बहन को चोदने के लिए।  मैंने अपनी बहन को और थोड़ा अपनी तरफ खींचा। कोमल भी मेरी ओर आ गई।  मैंने कोमल से कहा- लंड को थोड़ा और चूस कर गीला कर दो। 

कोमल ने मेरे लंड को चूस कर गीला कर दिया और कुछ ज्यादा सा थूक भी लगा दिया।  मैंने अपनी सगी बहन की चूत पर लंड सैट किया और पेलने से पहले अपनी बीवी कोमल से कहा- तुम नीतू को पकड़ो। कोमल ने नीतू के हाथ पकड़ लिए।  

मैंने बहन के बूब्स दबाए और धीरे से बहन की चूत में लंड घुसाना शुरू कर दिया। मेरे लंड का टोपा चूत में घुस गया।  नीतू कराहने लगी- उई मां … आंह भैया दर्द हो रहा है … प्लीज़ निकाल लो अपने लंड को। 

शादी और बेहेन की चुत की गर्मी – 1

बेहेन को हो गया चुदाई का दर्द

मैं बहन से बोला- कुछ नहीं होगा, थोड़ा दर्द होगा … ज्यादा नहीं।  मैंने अपनी बहन को किस किया और कसके धक्का दे मारा। मेरा आधा लंड चूत में घुस गया।  नीतू दर्द से तड़पने लगी। 

उसके मुँह से आवाज नहीं निकल पा रही थी, सिर्फ आंसू निकल रहे थे।  मैंने उसी समय एक और जोरदार धक्का दे मारा। मेरा पूरा लंड बहन की चूत में घुस गया।  

मेरी बहन अब जोर जोर से रोने लगी और बोलने लगी- आंह भैया मैं मर जाऊंगी … आंह बहुत दर्द हो रहा है, प्लीज़ भैया निकाल लो अपना लंड।  कोमल, नीतू को किस करने लगी और उसके बूब्स दबाने लगी। 

मैं नीतू को धीरे धीरे प्यार से चोदने लगा।  दो मिनट के बाद नीतू ने रोना बंद कर दिया और गर्म आहें भरने लगी। मैंने भी अपनी चोदने की स्पीड थोड़ी बढ़ा दी।  उधर कोमल, नीतू के कभी मम्मों को चूसती, तो कभी किस करती। 

मैं अपनी बहन को चोदता रहा और थोड़ी देर में बहन ने पानी छोड़ दिया।  मैं फिर भी चोदता रहा, जिसके कारण नीतू फिर से गर्म हो गई। गोली खाने के कारण अभी तक मेरा अमृत नहीं निकला था। मैं ताबड़तोड़ बहन की चूत चोदे जा रहा था।  

नीतू अब मजे ले ले कर चुद रही थी और ‘अअअअ एईई …’ करे जा रही थी। मैं भी पूरी ताकत से अपनी बहन की चूत चोदे जा रहा था।  बीस मिनट बाद नीतू फिर से झड़ गई। इस बार मैं हट गया और अपनी बहन की चूत की रस पी गया। 

सेक्स की एक लम्बी कहानी और वासना – 1

बेहेन के मुह्ह में ही छोड़ दिआ अपना माल 

अब मैंने बहन को बेड पर बिठाया और उसके मुँह में अपना लंड डाल दिया। बहन लंड चूसने लगी।  मुझे भी मजा आने लगा और मैंने कोमल को अपने पास खींचा और उसे किस करने लगा।  

थोड़ी देर बाद मैं झड़ने वाला था तो मैंने नीतू का सर पकड़ा और कस कसके उसके मुँह को चोदने लगा। मैं अपनी बहन के मुँह में पूरा लंड घुसा रहा था और थोड़ी देर में ही बहन के मुँह में ही झड़ गया।  मैं बोला- सारा माल पी जा। यही रस तेरे शरीर का विकास करेगा। 

मेरी बहन मेरा सारा माल पी गई।  मेरे लंड पर अभी भी माल लगा हुआ था, तो कोमल ने जीभ से चाट कर लंड साफ कर दिया और जो माल नीतू के मुँह पर लगा था, उसको भी चाट लिया।  मैंने टाइम देखा तो रात के दो बज रहे थे। 

मैंने अपनी बहन को देर तक चोदा था।  बहन वैसे ही नंगी बेड पर सो गई।  दूसरे दिन नीतू फ्रेश लग रही थी लेकिन अच्छे से चल नहीं पा रही थी। इसलिए दूसरे दिन मैंने नीतू को नहीं चोदा; सिर्फ नीतू के सामने कोमल को चोदा, जिससे नीतू मस्त चुदाई सीख सके।  

मैंने उस दिन कोमल की गांड भी मारी और बहुत तरह से चुदाई की। नीतू सामने बैठ कर कोमल की चुदाई देख रही थी।  मैंने अपने लंड का माल नीतू को पिलाया, जिससे नीतू सुंदर बन सके।  ऐसे ही रोज का प्रोग्राम हो गया। मैं एक दिन नीतू को चोदता और एक दिन कोमल को।  लगभग एक महीने के बाद मैंने नीतू की गांड भी मारी। 

Leave a Comment